HomeSex Story

गर्लफ्रेंड को चोदा उसकी बहन की शादी में

Like Tweet Pin it Share Share Email

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम रवि है और में पिछले कुछ सालों से सेक्सी कहानियाँ पढ़ता आ रहा हूँ, जिनको पढ़कर मुझे बहुत मज़ा आता है और मेरे मन को बहुत शांति मिलती है. दोस्तों में आज एक ऐसी ही मन को संतुष्ट करने वाली सेक्स घटना को बताने जा रहा हूँ, जिसमें मैंने अपनी एक गर्लफ्रेंड को बहुत जमकर चोदा और उसकी चुदाई के पूरे पूरे मज़े लिए और उसको भी मज़े दिए और में उम्मीद करता हूँ कि यह मेरी कहानी और मेरे चुदाई करने का तरीका आप सभी लोगों को बहुत पसंद आएगा.

दोस्तों यह बात आज से 8 महीने पहले की है, जब हमने अपना घर बदल लिया था और हम एक नये घर में चले गए. वहां पर कुछ दिन बहुत अजीब सा लगा, लेकिन मुझे बाद में पता चला कि मेरे नये घर के पास ही मेरे स्कूल में पढ़ने वाला एक लड़का जिसका नाम साहिल है वो रहता था और उसका और मेरा घर एकदम पास पास था और फिर उससे बातें होते होते हमारी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई और हम एक दूसरे के साथ बहुत समय बिताने लगे थे और फिर में कभी कभी उसके घर पर भी जाया करता था.

दोस्तों उसकी दो बहनें थी, लेकिन वो दोनों उससे उम्र में बड़ी थी और उनमें से बड़ी वाली बहन की शादी तय हो गई थी और छोटी वाली उस समय कॉलेज में अपनी पढ़ाई कर रही थी. दोस्तों वो बहुत सुंदर थी और में भी हमेशा उसे घूरता रहता था और जब वो मुझे देखती तो में उसकी तरफ स्माईल कर देता था और वो भी मेरी तरफ स्माईल कर देती. फिर हम धीरे धीरे एक दूसरे से बातें करने लगे और ऐसे ही समय गुजरता गया और साहिल की बड़ी बहन की शादी आ गई तो शादी से दो दिन पहले साहिल मुझसे बोला.

साहिल : यार रवि तू तो बहुत अच्छी तरह से जानता है कि मुझे कितना काम होता है और में हमेशा व्यस्त रहता हूँ और आज मुझे घर में कुछ ज्यादा ही काम है, अगर तू फ्री है तो प्लीज सोनाली को उसके कॉलेज छोड़ दे तू चाहे तो मेरी बाईक ले जा सकता है.

में : अरे यार यह भी कोई बोलने की बात है, मेरे पास अपनी भी बाईक है, अगर हम एक दूसरे की थोड़ी बहुत मदद भी नहीं करेंगे तो हमारी दोस्ती कैसी दोस्ती, हाँ ठीक है में उसे छोड़ देता हूँ.

अब में मन ही मन बहुत खुश होकर अपनी बाईक पर सोनाली को अपने साथ लेकर उसके कॉलेज के लिए निकल गया. दोस्तों सोनाली ने उस समय काली कलर की जींस और नीले कलर का टॉप पहना हुआ था, जिसमें वो बहुत सेक्सी लग रही थी, उसकी बिल्कुल टाईट जींस और वो थोड़ा छोटा टॉप शरीर से एकदम चिपका हुआ जो उसके बड़े बड़े बूब्स के आकार को बाहर से ही बता रहा था.

दोस्तों सच पूछो तो में भी हमेशा सोनाली से बात करने और उसे छूने के कोई ना कोई बहाने ढूंढता रहता था, क्योंकि में उसके गदराए हुये बदन, बड़ी बड़ी आखें, गुलाबी होंठो को देखकर उसकी तरफ बहुत आकर्षित था. फिर कुछ दूर चलने के बाद मैंने उससे बातें करते करते सही मौका देखकर उसकी तारीफ करते हुए कहा कि वाह सोनाली तुम आज बहुत सुंदर लग रही हो. दोस्तों मुझे पहले से बहुत अच्छी तरह से पता था कि लड़कियों को अपनी तारीफ सुनना बहुत अच्छा लगता है और मैंने भी उसे अपनी बातों में फंसाने के लिए ठीक वैसा ही किया.

फिर उसने मुस्कुराते हुए मुझसे धन्यवाद कहा और तभी मैंने जानबूझ कर हल्का सा ब्रेक लगा दिया, जिसकी वजह से वो मुझसे एकदम चिपक गई और उसके बूब्स मेरी कमर पर चिपके हुए थे, जिसकी वजह से मुझे उसके बूब्स को अपनी कमर पर महसूस करके बहुत अच्छा लग रहा था और शायद उसको भी मेरी इस बात का पता था. तभी उसका कॉलेज आ गया और वो मेरी तरफ मुस्कुराकर अपना हाथ हिलाकर मुझसे बाय कहती हुई चली गई और में कुछ देर उसे जाता हुआ देखता रहा और फिर उसी रात को में और साहिल उसके घर पर बैठे बातें कर रहे थे.

READ  पति और भाई के सामने गुंडे ने खूब चोदा :- अर्शिता Indian Sex Khanai

फिर साहिल मुझसे बोला कि यार आज तू यहीं पर सो जाना और वैसे भी बहुत रात हो चुकी है. दोस्तों मेरा घर साहिल के एकदम पास ही था, इसलिए में उसकी बात के लिए तुरंत मान गया, क्योंकि मेरे घरवालों को मेरे उसके घर पर शादी में काम करने की बात पता थी और वैसे में खुद भी उसके घर पर रुकने और उसकी बहन को देखने और उससे बात करने का मौका देख रहा था और मेरी अच्छी किस्मत से वो मौका मुझे मेरे दोस्त ने दे दिया.

अब में भगवान को बहुत बहुत धन्यवाद देने लगा. फिर कुछ देर बाद हम दोनों एक कमरे में सोने चले गए और उस समय में और साहिल दोनों एक साथ ही सो रहे थे, हमारे पास और भी बहुत लोग थे, लेकिन बहुत देर तक उसके पास लेटे रहने के बाद भी मुझे नींद नहीं आ रही थी और तब तक मेरे दोस्त के साथ साथ सभी लोग सो चुके थे. फिर में कुछ देर बाद उठकर बाहर जाकर छत पर खड़ा हो गया. तभी कुछ देर बाद सोनाली भी वहां पर आ गई और फिर वो मुझे छत पर देखकर मुझसे पूछने लगी कि क्या हुआ अभी तक सोए नहीं? मैंने उससे कहा कि में बहुत देर से सोने की कोशिश कर रहा हूँ, लेकिन मुझे नींद ही नहीं आ रही थी, इसलिए में छत पर आ गया.

अब हम दोनों इधर उधर की बातें करने लगे, वो मेरी हर एक बात का मुस्कुराकर जवाब दे रही थी, हमारे बीच में बहुत देर तक हंसी मजाक चलता रहा. वो बहुत खुश नजर आ रही थी और उस समय छत पर हम दोनों के अलावा और कोई भी नहीं था और रात के अँधेरे में हमें कोई देख भी नहीं सकता था, क्योंकि जिस जगह पर हम दोनों खड़े थे, वहां पर उस दीवार के पास कोई नहीं आता, इसलिए इस बात का पूरा पूरा फायदा उठाते हुए मैंने उससे बातें करते करते उसको बोल दिया कि में तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो और में यह बात तुमसे बहुत दिनों से कहना चाहता था, लेकिन मुझे कोई मौका ही नहीं मिला, इसलिए में आज तुमसे अपने मन की सच्ची बात बता रहा हूँ, लेकिन दोस्तों वो मुझसे कुछ नहीं बोली बस मेरी तरफ मुस्कुराने लगी. फिर मैंने उसके मुस्कुराने को उसकी तरफ से हाँ समझकर तुरंत उसका हाथ पकड़ लिया और उसको अपने पास खींचकर हग करने लगा और कुछ देर हग करने के बाद अब वो भी मुझे ज़ोर से हग कर रही थी और वो मेरा पूरा पूरा साथ दे रही थी.

मैंने महसूस किया कि उस समय आग हम दोनों में बराबर की लगी हुई थी और उस बात का मैंने पूरा फायदा उठाने के बारे में सोच रखा था. फिर मैंने उसका चेहरा ऊपर किया और उसे लिप किस करने लगा, वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

फिर में उसके बूब्स पर हाथ रखने लगा.

तभी उसने मुझसे कहा कि यहाँ पर कोई आ जाएगा, चलो हम नीचे वाले कमरे में चलते है तो हम उसके रूम में चले गये, लेकिन हमने नीचे आकर देखा कि वहां पर उसकी बड़ी बहन सोई हुई थी, लेकिन हम दोनों पर तो उस समय सेक्स चड़ा हुआ था, इसलिए हमने उसकी बहन की फ़िक्र नहीं की और वहीं पर एक कोने में जाकर बैठ गए और अँधेरे का फायदा उठाते हुए किस करने लगे. वो अब पूरी तरह जोश में आकर मेरी जीभ को अपनी जीभ से चूस रही थी और में अपने एक हाथ से उसके बूब्स को मसल रहा था और दबा रहा था, जिसकी वजह से धीरे धीरे मदहोश हो रही थी.

READ  कविता को पसंद आया बनाना लंड

फिर कुछ देर बाद मैंने मौके का फायदा उठाते हुए उसकी टी-शर्ट को तुरंत उतार दिया और अब उसके बड़े बड़े एकदम गोल बूब्स मेरे सामने थे, जिनको देखकर में ललचाने लगा और बूब्स को दबाने लगा और वो पागलों की तरह मोन कर रही थी.

में उसके दोनों बूब्स को बहुत ज़ोर से निचोड़ रहा था. फिर मैंने उसके पूरे शरीर को लीक किया, में अब उसकी गरम बैचेन चूत को उसके लोवर के ऊपर से दबा रहा था, लेकिन कुछ देर बाद मैंने उसे चूमना, चाटना शुरू किया और वो अब लगातार मोन कर रही थी और मुझसे कह रही थी उफ्फ्फ्फ़ हाँ उतार दो स्स्ईईईईइ प्लीज तुम अब मेरा लोवर अह्ह्ह्हह्ह्ह्ह.

फिर में जल्दी से उसका लोवर उतारकर उसकी गीली पेंटी के ऊपर जीभ फेरने लगा तो वो बिल्कुल पागल होने लगी और ज़ोर ज़ोर से चीखने लगी, उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह्हह्ह रवि और चाटो. अब मैंने अपने मुहं से उसकी पेंटी को भी उतार दिया, वाह दोस्तों क्या चूत थी उसकी एकदम गुलाबी फूली हुई और उस पर बिल्कुल भी बाल नहीं थे. में तुरंत अपने होंठ उसकी चूत पर रखकर चूत को चाटने लगा, चूसने लगा.

फिर मैंने महसूस किया कि वो अपने चूतड़ को ऊपर उठाकर पूरे जोश में आकर मेरी जीभ से अपनी चूत को चुदवा रही थी और में भी पूरे मज़े लेकर चूसता गया, लेकिन करीब 15 मिनट के बाद मैंने महसूस किया कि उसका पानी निकल गया और में वो सारा पानी पी गया.

फिर उसके कुछ देर चूत चाटने के बाद वो मेरे लोवर से मेरे लंड को बाहर निकालकर सहलाने धीरे धीरे हिलाने लगी और कुछ देर बाद उसने चूसना शुरू किया और करीब 10 मिनट तक लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने के बाद में उसके मुहं में झड़ गया और वो मेरा पूरा वीर्य गटक गई.

फिर मैंने कुछ देर बाद उसको अपने ऊपर लेटा लिया और अपना लंड उसकी चूत के मुहं पर रख दिया. उसकी दोनों जांघो को कसकर पकड़ लिया और फिर अपना पूरा दम लगाकर लंड को चूत के अंदर धकेलने लगा तो वो दर्द की वजह से बहुत ज़ोर से चिल्लाने लगी और मैंने तुरंत उसके होंठो पर अपने होंठ रखकर उसका मुहं बंद कर दिया और कुछ देर रुककर फिर से लंड को अंदर करने लगा. उसकी वर्जिन चूत में मेरा लंड बहुत मुश्किल से अंदर गया और हम दोनों पूरे पसीने से भीग चुके थे. में अपनी जगह पर एकदम शांत था और कुछ देर बाद जब उसका दर्द कम हुआ तो वो थोड़ी शांत हुई और में उसको धीरे धीरे धक्के देकर चोदने लगा, वो बिना आवाज के मोन कर रही थी और में लगातार धक्के दिए जा रहा था, करीब 30 मिनट की चुदाई के बाद हम दोनों एक एक करके झड़ गये, लेकिन उसकी बड़ी बहन उठकर बैठी हुई थी और वो सब कुछ देख रही थी, मुझसे घबराहट की वजह से कुछ बोला भी नहीं गया और मैंने जल्दी से अपने कपड़े पहने और चुपचाप वापस जाकर साहिल के पास में सो गया.

फिर अगले दिन सुबह में उनसे नजर चुरा रहा था, लेकिन जब में गलती से उनके कमरे में गया, तब वो बिल्कुल अकेली थी और में उन्हें देखकर तुरंत बाहर निकल गया और फिर उन्होंने मुझे अपने पास बुलाया. दोस्तों मेरी तो गांड फट गई, लेकिन यह क्या जब में उसके कमरे में गया तो मैंने देखा कि वो पूरी नंगी बैठी हुई थी.

फिर में उसको इस हालत में देखकर दोबारा बाहर जाने लगा. फिर वो मुझसे बोली कि वहीं पर रूको और में रुक गया, वो मेरे पास आई और बहुत गुस्से में आकर ज़ोर से बोली कि कल रात को तू मेरी बहन के साथ क्या कर रहा था? फिर मैंने घबराकर हकलाते हुए बोला कि जी कुछ नहीं, अब वो अचानक से हंसने लगी और मुझसे बोली कि मुझे भी तुझ से चुदवाना है, क्योंकि मेरी शादी है और मुझे कुछ नहीं आता मैंने कल रात को तेरा सारा काम और काम करने का तरीका देखा था, तू बहुत अच्छा काम करता है, चल अब तू मेरे साथ भी शुरू हो जा और मुझे भी कुछ सिखा और उसने तुरंत उठकर दरवाजा अंदर से बंद किया और मुझे किस करने लगी. मैंने भी उसको हग करना शुरू किया और उसके साथ साथ किस करने लगा.

READ  अपना वीर्य आंटी को चटाया हेलो दोस्तों.. मेरा नाम नितिन है और मेरी उम्र 26 साल है. मैंने अपने जीवन के बहुत से सेक्स अनुभव यहाँ आपके साथ बहुत से शेयर किये है और आप लोगो ने उनको काफी सराहा और पसंद किया. वो मेरे लिए बहुत अच्छी बात है. अब मैं आज आप सभी के सामने अपना एक नया सेक्स अनुभव लिख रहा हूँ और शायद मेरी पिछली कहानी भी आप सभी को याद होगी कि कैसे मैंने अपनी आंटी को बजाया और अब मैं उसके आगे की कहानी शुरु करता हूँ.. दोस्तों आंटी के साथ सेक्स करने के बाद आंटी मेरे लंड की दीवानी हो गयी और फिर जब भी अंकल बाहर जाते तो हम बहुत दिनों तक कई कई घंटो तक सेक्स करते फिर एक दिन अंकल को किसी काम से कुछ दिनों के लिए बाहर जाना था और मुझे तो मज़ा आ गया कि मैं अब मज़े से आंटी की चुदाई करूंगा.. तो अंकल के जाते ही मैं आंटी के घर पर पहुंच गया. आंटी किचन में अपना काम कर रही थी और मैं उनके पीछे खड़ा हो गया और मैंने अपने लंड को आंटी की गांड से छू दिया. तभी आंटी ने कहा कि इतनी जल्दी क्या हैं? अभी तो हमारे पास पूरा एक हफ्ता पड़ा हैं.. तुम जी जैसे चाहो वैसे जी भरकर चुदाई करना. तो मैंने कहा कि मुझे अभी इसी वक़्त चुदाई करनी हैं.. आंटी बोली कि ठीक हैं और मैंने आंटी की साड़ी को खोल दिया और उनके बूब्स चूसने लगा. तो आंटी कहने लगी कि मुझे कब से इस दिन का बड़ी बेसब्री से इंतजार था कि तुम जी भरकर मुझे चोदो और वैसे भी तुम्हारे अंकल के लंड में अब वो दम नहीं हैं.. जो तुम्हारे लंड में है. फिर मैंने आंटी की चूत चाटनी शुरू कर दी और आंटी सिसकियाँ लेने लगी हाए आह्ह्ह ऊँह्ह्ह और जोर से चूसो. फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और आंटी की चूत पर रखकर जोर जोर से धक्के मारने लगा. आंटी वाह मेरे राजा मार आज फाड़ दे मेरी चूत को और जोर से मार कसकर धक्के मार बना दे मुझे अपनी रंडी.. मैं भी कहे जा रहा था कि ले रंडी ले मेरा लंड ले.. मैं आज तेरी चूत के दो टुकड़े कर दूंगा और मैं पूरे जोश मैं आकर बहुत जोर जोर से धक्के देकर उसकी चूत मार रहा था और इस चुदाई के चक्कर मैं हमने दरवाजा बंद नहीं किया था और हम पूरे जोश के साथ सेक्स मैं लगे हुए थे. तभी आंटी की बड़ी बहन जिसे मैं बड़ी माँ कहता था वो आ गयी.. लेकिन हम लोगों को पता नहीं था और हम तो सेक्स में व्यस्त होकर मज़े कर रहे थे और हमे उस समय इस बात का पता नहीं चला और सेक्स के बाद हमने कपड़े पहने और आंटी ने कहा कि बच्चे स्कूल से आते होगें.. जान तुम आज रात को आना हम फिर से मजा करेंगे. तो मैं उस समय अपने घर पर चला गया और जब रात को आंटी के घर गया तो देखा कि आंटी कुछ परेशान लग रही थी.. तो मैंने पूछा कि आंटी क्या बात है? और आप इतनी टेंशन में क्यों हो? तब उन्होंने मुझे बताया कि जब हम दिन में सेक्स कर रहे थे.. तब हमे मेरी दीदी ने देख लिया. फिर मेरे तो होश ही उड़ गये और मैं कुछ देर बाद बोला कि आप यह क्या बोल रही हो? लेकिन हमे बड़ी मम्मी ने कब देख लिया? तो उन्होंने कहा कि हाँ मैं एकदम सच बोल रही हूँ.. हमे उन्होंने सेक्स करते हुए देख लिया है. फिर मैंने बोला कि अब क्या होगा? तो वो बोली कि उन्होंने कहा हैं कि वो रात को यहाँ पर आएगी.. लेकिन हम बहुत डर गये थे कि अब सबको पता चल जाएगा. फिर आंटी ने अपने दोनों बच्चो को खाना खिलाकर जल्दी ही सुला दिया और हम बैठे बैठे उनका इंतजार करने लगे.. बड़ी माँ रात के 10 बजे आई और उन्होंने कहा कि मैं तुम दोनों के बारे मैं तुम्हारे अंकल को बताउंगी. तो मैंने कहा कि जाओ बताओ मैं भी बता दूँगा कि तुम्हारा पति कुछ नहीं कर पता.. क्योंकि उसका लंड खराब हो गया हैं और तुम अपनी चूत में मोमबत्ती घुसाती हो. तो उन्होंने कहा कि तुम्हे यह सब किसने बताया? फिर मैंने कहा कि वो तो छोड़ो.. तभी वो रोने लगी और कहा कि मुझे सिर्फ़ यह कहना था कि बेटा तुम मेरी भी प्यास बुझा दो. तो मैंने कहा कि आपको ऐसा पहले कहना था और हम तो बिना बात के डर ही गये थे. तो आंटी ने कहा कि आज तो बहुत मज़ा आएगा और मैंने बड़ी माँ को गले लगा लिया. मेरी बड़ी माँ के बूब्स 40 के होंगे और गांड 34 की.. मैंने उनकी साड़ी खोल दी और कहा कि चल अपने बूब्स दिखा रंडी. तो उसने ब्रा को खोल दिया और मैं तो दंग ही रह गया कि उसके बूब्स इतने बड़े थे और मैंने बूब्स चूसना शुरू कर दिया. एक बूब्स मैं चूस रहा था और एक आंटी.. फिर हमने थोड़ी देर बाद बड़ी माँ को लेटा दिया और मैं उनकी चूत पर चड़ गया और उनकी चूत को चाटने, चूसने लगा और आंटी उनके बूब्स चूस रही थी. तो बड़ी माँ सिसिकियाँ भर रही थी और कह रही थी कि वाह मज़ा आ गया यार प्लीज़ और चूसो.. मैं चूसता रहा और थोड़ी देर बाद उनकी चूत से पानी निकल गया और वो कांपने लगी और कहने लगी कि मेरी शादी के इतने साल बाद आज पहली बार मेरी चूत से पानी निकला हैं. तो मैंने कहा कि मैं अब आपकी चूत फाड़ दूंगा.. तभी वो बोली कि फाड़ दे बेटा मेरी चूत और दिखा अपने लंड का जोश. फिर मैंने अपना लंड पेंट से बाहर निकाला.. तभी वो मेरा बड़ा लंड देखकर डर गयी और बोली कि यह 7 इंच का लंड अब तक कहाँ पर छुपाकर रखा था? और मुझे पहले पता होता तो मैं हमेशा तुझसे ही चुदवाती. मैंने बिना देर किए अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया.. उनके मुहं से आह्ह्ह निकल गयी और वो जोर से चिल्लाने लगी.. ऊई हहाहह माँ मार दिया मुझे.. चोद मुझे और जोर से चोद दे फाड़ दे माँ उईईई मैं गई.. तो मैंने कहा कि अब मेरा वीर्य निकलने वाला है.. कहाँ पर डालूं? तो उन्होंने कहा कि डाल दे अंदर ही और मैंने उनकी चूत के अंदर ही अपना वीर्य डाल दिया.. आंटी देख रही थी और उसने अपनी बहन से कहा कि आपका काम तो हो गया दीदी बताओ अब मेरा क्या होगा? तब बड़ी माँ ने कहा कि आज मैं एक सेक्स पावर की गोली लाई हूँ हम इसको खिला देते हैं और यह हम दोनों को आज रात भर चोदेगा. तो मैंने कहा कि नहीं मैं गोली नहीं खाऊंगा.. आंटी ने कहा कि बेटा खाले नहीं तो तेरी बड़ी माँ कूद कूदकर शोर मचाएगी क्योंकि उसे बड़े दिनों के बाद लंड जो मिला हैं. फिर मैंने वो गोली खा ली और थोड़ी देर बाद जब उस गोली का असर हुआ तो मेरा लंड ऐसा हो गया था जैसे मानो की लोहे का सरिया हो.. मेरा लंड तनकर अकड़ रहा था और मुझे बहुत दर्द हो रहा था.. मेरी हालत एसी थी कि मुझे जो कोई भी मिल जाए मैं उसे ही चोद दूँ. मैंने आंटी को कहा कि जल्दी से कुतिया बन जाओ और मैं आंटी के बाल पकड़कर उनके ऊपर चड़ गया और चुदाई शुरू की.. गोली की वजह से मुझे वीर्य गिरने का भी डर नहीं था इसलिए मैं पागलों की तरह कसकर धक्के मार रहा था. तो आंटी बोली कि क्या आज मेरी चूत फाड़ ही दोगे? मैंने कहा कि साली कुतिया चुपकर अपने पति से सन्तुष्टि नहीं मिलती तो मुझसे चुदवाती हैं साली कुतिया ले मेरा लंड. तो आंटी सिसकियाँ लेने लगी.. उई माँ उऊफ़ मैं मर गयी उईउऊफ़ मज़ा आ रहा हैं यार.. मार कसकर मार ईईईऊफ़.. तभी बड़ी माँ बोली कि क्या उसे ही चोदेगा या मुझे भी चोदेगा कुत्ते? तो मैंने कहा कि आजा रंडी तू भी और मैंने कहा कि चल घोड़ी बन और उसकी गांड में लंड घुसा दिया.. वो रोने लगी हाए बाहर निकाल आज तू क्या मुझसे बदला लेगा? तो मैंने कहा कि चुप कुतिया ले मेरा लंड ले बहुत गोली खिलाने का शौक था ना तुझे.. ले अब और गांड मरवा. मैंने उसकी गांड मार मारकर उसकी गांड का छेद बड़ा कर दिया. वो उई उऊफ़ गया पूरा लंड मेरी गांड में गया.. मैं मर जाऊंगी.. मैं आज मर गई.. उउफ वो यही कह रही थी और फिर आंटी ने कहा कि मेरी भी गांड मार बेटा. तो मैंने अपना लंड आंटी की गांड मैं घुसा दिया.. वाह मुझे मज़ा आ गया यार मैं बहुत धक्के मारता गया और मैंने उस रात बहुत देर तक उन दोनों की चुदाई की और उन दोनों की हालत खराब हो गई.. लेकिन गोली की वजह से मेरा वीर्य निकल ही नहीं रहा था.. तभी मुझे एक आईडिया आया और मैंने कहा कि आज मैं तुम दोनों को मार ही डालूँगा.. मैंने आंटी से कहा कि अपना मुहं खोलो. तो उन्होंने मुहं खोल दिया और मैंने उनके मुहं में अपना लंड घुसा दिया और आंटी के मुहं को चोदने लगा. आंटी को बहुत मज़ा आ रहा था.. लेकिन मैं इतनी जोर से धक्के मार रहा था कि आंटी की सांसे तक रुक रही थी और उनकी आखों से आंसू आने लगे थे. तो आंटी बोली कि मुझे नये तरीके से चोद.. मैंने कहा कि ठीक हैं और मैंने उनको हवा में उठा दिया और चोदने लगा.. आंटी की हालत खराब हो रही थी. तो आंटी ने कहा कि तो अब मुझे छोड़ दे और दीदी को चोद.. मैंने बड़ी माँ को पकड़ा उसकी गांड को जोर से काट लिया और फिर उसकी गांड बहुत जोर से मारने लगा. मैंने उस रात उन दोनों को 4 बार चोदा दिया अब मुझे लगने लगा कि मेरा वीर्य निकलने वाला है तो मैंने कहा कि जो भी मेरा वीर्य गिराएगा मैं उसे कल फिर गोली ख़ाकर चोदूंगा. तो तुम दोनों सोच लो कि जो कोई भी जीतेगा वो कल कितने मजे करेगा. फिर मैंने पहले बड़ी माँ को बहुत चोदा.. लेकिन मेरा वीर्य नहीं गिरा और जब आंटी को चोदा तो भी वीर्य नहीं गिर रहा था. तो आंटी ने अपना दिमाग़ लगाया और कहा कि जान आज बहुत मज़ा आ रहा है और वो मेरे पास आती जा रही थी और बोलने लगी कि अपना लंड मेरे मुहं में डालो.. अपना वीर्य मेरे मुहं में डालो.. यह सुनकर मेरा वीर्य गिरने लगा था.. मैंने अपना लंड आंटी के मुहं में घुसा दिया और वो सारा वीर्य पी गयी और हम तीनो ऐसे ही नंगे सो गये .. Aug 22, 2016Desi Story

फिर उसने मेरे कपड़े उतारे और वो मेरे लंड को सक करने लगी, तभी वो मुझसे बोली कि प्लीज मेरे मुहं में मत निकालना, में आज पहली बार चूस रही हूँ. फिर में उसके मुहं में अपना पूरा लंड घुसाकर उसके मुहं को चोदने लगा, मुझे बहुत मज़ा आ रहा था, लेकिन कुछ देर के धक्कों के बाद मुझसे अब बिल्कुल भी कंट्रोल नहीं हुआ और में उसके मुहं में झड़ गया, पहले तो उसको मेरा झड़ना बहुत बुरा लगा, लेकिन फिर वो कुछ देर बाद मुझसे बोली कि यह बहुत स्वादिष्ट है और वो मेरा सारा वीर्य पी गई. फिर में उसको लेटाकर उसकी चूत को चाटने लगा था.

दोस्तों उसकी वर्जिन चूत बहुत स्वादिष्ट थी, करीब 15 मिनट में ही वो झड़ गई, लेकिन मेरा लंड तब तक खड़ा हो गया था तो मैंने उसको एकदम सीधा लेटाकर उसकी चूत के मुहं पर अपना लंड रख दिया और उसका मुहं अपने एक हाथ से बंद करके दो जोरदार झटकों में अपना पूरा लंड उसकी चूत के अंदर में डाल दिया और वो दर्द से रोने लगी. में थोड़ी देर रुक गया और वो शांत हो गई और अपनी गांड को हिलाने लगी तो मैंने झटके लगाने शुरू किए और ज़ोर से उसको चोदने लगा, वो अब मोन कर रही थी. फिर करीब 20 मिनट के बाद वो एक बार फिर से झड़ गई और में भी अब झड़ने वाला था तो वो मुझसे बोली कि तुम मेरी चूत में ही निकालना. फिर 5-6 ज़ोरदार झटकों के साथ में उसकी चूत के अंदर ही झड़ गया और हम वैसे ही लेटे रहे और करीब 30 मिनट के बाद फिर से हमने दूसरी बार चुदाई की. दोस्तों मैंने उस दिन उसको 3 बार चोदा और शादी के बाद भी में उसको उसके ही घर पर 6 बार चोद चुका हूँ.

Aug 15, 2016Desi Story

Content retrieved from: .

Related posts:

bharti khajuria swankha ki
विधवा होने का फायदा उठाया मेरा बेटा
कामिनी मेरी सेक्सी गर्लफ्रेंड
नई बॉस की गर्मी मिटाई
रंडी माँ के कारण बहनें चुदी भाई से
भाभी को दो बच्चों की माँ बनाया Nude Bhabhi
दोस्त की मम्मी ने लंड पकड़ लिया Blojob Kiya
कुंवारी पड़ोसन के साथ रात गुजारी
राज के साथ प्यार भरा सेक्स
तीन बच्चों की माँ को संतुष्ट किया
रितिका मॅम आप बहुत
पड़ोस की आंटी के साथ मनाया सुहागरात
जलपरी की चूत - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya
कुंवारी टीचर की चूत चाट कर चुदाई की
मेरी मौसी की चुदाई - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya
खुनी चुदाई हुई मामी की चूत की
पुरे परिवार की भोसड़ी चोदी
नशे में और एकांत में अपनी बेटी का हवस
नंगा पूंगा डांस हुई रुपाली भाबी के साथ
खूसट बुड्ढे ने चूत चाट कर चुदाई की
गैंग बैंग चुदाई हुई माँ की
चुदाई की क्लास ली बहन की
मासी की दोस्त की चुदाई
मौसी की प्यासी चूत Mausi Ki Pyasi Chut
My Sexy Shylaja Aunty Story
Ek Khubsurat Rat Chacha Chachi Ke Sath
Bewafai Ke Chakar Mein Lovely Nichoo Chud Gai Mujhse – Part i
बहन चुदवाकर लंड की दीवानी बन गई
डॉक्टरने क्लिनिक में चुदवा लिया
बड़े लौड़े के लिए मम्मी का जुगाड़ अंकल से लगवाया

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *