HomeSex Story

गे सेक्स कहानी : मेरा पहला प्यार

गे सेक्स कहानी : मेरा पहला प्यार
Like Tweet Pin it Share Share Email
गे सेक्स कहानी : मेरा पहला प्यार

बात उन दीनो की हे जब २१ साल का था, मेरे पड़ोस मे एक लड़का रहता था जिसका नाम राज था जो बहुत ही खूबसूरत, चिकना गरवाली लड़का था, उसका मेरे घर और मेरा उसके घर बहुत आना जाना था, बल्कि आज भी वो मेरा बेस्ट फ्रेंड हे, हुमारी दोस्ती की शुरुआत भी एक अजीब कहानी हे, वो हुमारे पड़ोस मे नये नये रहने आए थे, एक दिन स्कूल से बंक मार कर दोस्तों के साथ वो सिग्रते पिता पकड़ा गया, पोलीस वाला उसे सिग्रते के साथ गहर पर छोड़ गया था, और हुमारी स्ट्रीट मे उसकी बहुत बेइज़्ज़ती करके गया था,

उसकी मम्मी ने ऑफीस से आकर उसकी बहुत पिटाई की थी, मैं जब शाम को कॉलेज से आया तो मैने ही उसे और पीटने से बचाया और अपने साथ पार्क मे ले गया, जहाँ मैने उसे खूब समझाया और आख़िर मे उसे अपने साथ एक सिग्रते भी पिलाई, वो सोचता था की भैया सिग्रते नहीं पीते, लेकिन मैं कभी कभी पी लेता था, उस शाम वो बहुत रोया, मैने उसे समझाया जब मेरी उमर का हो जाए तब इन चीज़ों के बारे मे सोचे अभी ये सब करना ठीक नहीं , और बड़े तो हुमारी भलाई के लिए ही ह्यूम मरते हैं, अभी तुम सिर्फ़ अपनी पड़ाहाई पर ध्यान दो, इन फॅक्ट उसे प्यार से समझाने वाला उसके घर पर कोई नहीं था, वो अपनी मदर के साथ अकेला देल्ही मे रह रहा था, उस दिन के बाद से वो मेरे साथ ज़्यादा रहने लगा, अपनी स्टडी प्राब्लम लेकर भी मेरे पास आने लगा, मैने उसमे एक बात नोट की थी की वो कुछ संकोची सवभाव का था मेरा मतलब कुछ शर्मिला सा था, लेकिन मैने सोचा शायद गरवाल से नया नया आया हे इसी लिए ऐसा हे.

इस बात के दो महीने बाद …. हुमारे घर मे शादी थी, मेरे बड़े भैया भाभी जो की अलग घर मे रहते थे वो भी आए हुए थे, भैया ने आते ही मुझे ऑर्डर दिया की रात मे मैं उनके घर पे जाकर सोया करूँ, क्योंकि आज कल चोरी बहुत हो रही हे, मुझे भैया के घर पर अकेले जाकर सोना बड़ा बुरा लगता था, फिर भी मैं कुछ बोला नहीं, तभी मम्मी ने कहा की राज को साथ ले जया कर 5,6 दिन की तो बात हे और उसकी तो गर्मियों की चुट्टिया (सम्मर वाकेशन) चल रही हे, दोनो दोस्त चले जाना मैं अभी उसकी मम्मी से कहे देती हूँ. मैने सोचा इससे अक्चा क्या होगा एक से दो भले हो जाएँग. शाम को भैया के दोस्तों को आना था, भैया शादी से पहले अपने दोस्तों को ड्रिंक पार्टी दे रहे थे, इस लिए बड़े भैया ने मुझे वहाँ से जल्दी जाने के लिए कह दिया, रात 8.00 बजे मैं और राज दोनो भैया के घर के लिए निकल पड़े. थोड़ी देर मे ही हम लोग भैया के घर पे थे, वहाँ जाकर हम केबल पर पिक्चर देखने लगे मैं शादी की भाग दौड़ की वजह से काफ़ी थकान महसूस कर रहा था, घर मे सबसे छोटा होने की वजह से सारे भाग दौड़ वाले काम मुझसे ही करवाते थे.

READ  मुझे नाइजीरियन लड़की ने हवस का

पिक्चर देखते देखते ना जाने कब मुझे नींद आ गई, मेरी नींद उस समय टूटी जब मुझे इस बात का अहसास हुआ की कोई मेरे लंड को पकड़ रहा हे, मेरी आँख कल गई, कमरे मे अंधेरा था , मुझे समझते देर नहीं लगी की राज ने मेरे लंड को पकड़ा हे और शायद उसे मापने (मेषर्मेंट ) की कोशिश कर रहा हे, मैं चुप छाप बिना कोई हरकत करे उसकी शरारत का मज़ा ले रहा था, उसे इस बात का बिल्कुल भी अहसास नहीं था की मैं जाग गया हूँ, मेरा लंड एक अजीब सी गुड-गुड़ाहट से खड़ा होने लगा था और बस थोड़ी ही देर मे पूरी तरह कड़क हो गया, राज के सॉफ्ट हांत का अहसास बहुत अक्चा लग रहा था, क्योंकि पहले कभी किसी ने मेरे लंड को इस तरह पकड़ा नहीं था. मेरे अंदर एक सेक्स की भावना सी जागृत होने लगी थी, राज बड़े प्यार से लंड को पयज़ामे के उपर से सहला रहा था कभी लंड के सुपरे को छूटा तो कभी टट्टो छूटा, थोड़ी देर ऐसा करने के बाद उसकी हिम्मत और बदगाई और उसने अपना हांत धीरे धीरे पयज़ामे के अंदर डाल दिया.

और मेरे लंड दो अपने चिकने मुलायम हांत से पकड़ने चुने लगा. तभी मेरे अंदर का सेक्स हरकत मे आगेया, और मैने उसका हांत लंड के उपर ही पकड़ लिया वो एकद्ूम शिथिल (बेजान) सा पद गया, मैने अपना पयज़ामा खोल दिया और लंड को उसके हांत मे सही से थमा दिया, वो अब कोई हरकत नहीं कर रहा था, बस मेरे लंड को पकड़े हुए था, मैने उसे बेतहाशा किस किया जैसे वो कोई लड़की हो, फिर मैने उसकी निक्कर उतार दी उसकी लुल्ली भी खड़ी हो रखी थी, फिर मैने उसे उठ कर बैठने को कहा, वो भी आदर्श बाकछे की तरह कहना मान गया, मैने उसकी त-शर्ट भी उतार दी, अब वो मेरे सामने बिल्कुल नंगा था, मैने लाइट का स्विच ओं कर दिया तो वो लड़कियों की तरह अपने आप को ढकने की कोशिश करने लगा, तब मैने कहा की वो शरमाये ना मैं उसको देखना चाहता , तो वो बोला की उसे शरम आ रही हे, तब मैने झट से अपने कपड़े उतार कर एक तरफ कर दिए और बोला की देखो अब मैं भी तुम्हारी तरह हो गया हूँ, मेरे उपर अचानक सेक्स की हैवानियत सवार हो गई थी, मैने उसको अपने उपर खींच लिया उसकी लुल्ली एकद्ूम सखत हो रखी थी मैने उससे पूछा जैसा तुमने मेरे साथ किया ऐसा क्या तुम पहले भी किसी के साथ कर चुके हो क्या?

READ  प्रोफेसर ने चूत स्टूडेंट से चुदवाई हेल्लो दोस्तों मेरा नाम शिव है मैं एक मध्यम बांधे का गेहूँवन का लड़का हूँ, मेरी उम्र 21 साल है. मैं आज आपको मैंने अपने इकोनॉमिकस की टीचर की चुदाई की तब की कहानी बताऊंगा…यह टीचर का नाम प्रियंका है. वैसे तो मैं कोलेज के पिछले दो सालो मैं कितनी ही इंडियन औरत और इंडियन गर्ल्स की चुदाई कर चूका था लेकिन मेरे लिए यह इंडियन चूत बहुत अलग थी और यह इंडियन चूत शायद मैं जिंदगी भर याद रखूँगा.   हमारे कोलेज मैं प्रियंका मेम का पहेला दिन मुझे आज भी याद है, वह किसी कोलेज गर्ल के जैसी ही लाग रही थी और यही धोखा सभी को हुआ था, कितनो ने तो उस दिन इस इंडियन सेक्सी लड़की को पटाने के तरीके भी सोचे थे, लेकिन जब पता चला की यह तो नई नई पढाई ख़त्म कर के बनी हुई प्रोफ़ेसर है तो कितनो के दील टूट गए थे. वैसे इस इंडियन सेक्सी मेडम के क्लास को कोई मिस नहीं करता था और लड़के तो कभी नहीं….! एकाद महिना हो गया इस सेक्स बम को क्लास में पढ़ाते हुए और उसकी और मेरी अच्छी जमने लगी थी, वोह अक्सर मुझे अपने पर्सनल काम के लिए बुलाती थी, लेकिन आज तक इसने मुझे अपने घर नहीं बुलाया था किसी भी काम से….उसके सारे काम स्टाफ रुम स्टेशनरी वगेरह के ही रहेते थे. मैं मनोमन सोचने लगा बस एक बार चांस दे दो तुम्हारी इंडियन चूत बजा ना दूँ तो मेरा नाम भी शिव नहीं. उस दिन सुबह सवेरे मेरी किस्मत खुल गई, प्रियंका मेडम ने मुझे केंटिन के बहार ही पकड़ा और कहा, “शिव आज मेरे घर आओगे. मुझे घर पे कुछ काम है ?” मेरे मन मे लड्डू फूटने लगे थे, मैंने कहाँ, “जरुर मेडम, पर मैंने आपका घर नहीं देखा है….!” प्रियंका मेडम, “एक काम करेंगे, शाम को मैं तुम्हे अपनी स्कूटी पर ही लिफ्ट दे दूंगी” दोपहर ही हुई थी और मेरे लिए एक एक पल निकालना भारी था, मैंने बाथरूम जा के एक बार लंड को अपने हाथ में लेकर इंडियन पोर्नस्टार प्रियंका चोपरा और प्रियंका मेडम के साथ थ्रीसम के ख़याल करते हुए हस्तमैथुन कर दियां. लंड एक घंटे में फिर से मुझे हेरान कर रहा था, मैं सोच रहा था की कब मैं मेडम के साथ जाऊं और कोई चांस शायद निकल आयें. शाम उस दिन बहुत देर से हुई, आखिर कार शाम के कुछ 5 बजे प्रियंका मेडम लायब्रेरी से निकली और बोली, “चलो शिव” उसने अपनी स्कूटी निकाली और वह अपने गोल गोल कूले इस स्कूटी की सिट पर रख के बैठ गई, मैं पीछे बैठ गया. मेरी नजर कभी उसके कूलों पर पड़ती तो कभी उसके कंधो पर, साड़ी के ब्लाउज़ के उपर के भाग में इस इंडियन टीचर के गोरे कंधे का भी अपना नशा था, मेरा लंड अब फिर से पेंट में ऊँचा हो रहा था. हम लोग मेईन मार्केट से होते हुए निकले और रास्ते में गर्दी होने के कारण कई बार ब्रेक लगाना पड़ा, मेरे दिमाग में शैतानी सूझी और मैं धीरे से आगे सरक गया, अब जब भी मेडम ब्रेक लगाती वह ना चाहते हुए भी मुझ से अपनी कमर टकरा देती थी. उसका घर आ गया और हम निचे उतरे, मेरा लंड मेरी जींस में भी काट रहा था. घर में दाखिल होते ही मेडम ने कहा, “मेरे मम्मी डेडी दो दिन से इंदोर गए है और मेरे पीसी मेरे डेड के पीसी में शायद वायरस आ गया है तो मुझे वह ठीक करवाना था तूम से. मैंने तुम्हे अक्सर लायब्रेरी के पीसी पर देखा है और सोचा की तूम यह कर लोगे.” मैंने कहा, “देखते है मेडम…!” उसने मुझे पीसी पर से कवर हटा के दिया और मैं वही कुर्सी में बैठकर पीसी चालू कर के चेक करने लगा, स्केन के रिज़ल्ट देख के मेरी आँखे खुली रह गई, मेडम ने उस पे हिंदी सेक्स स्टोरीस और वीडियो ही नहीं बल्क़ि पोर्न वीडियो वाली साइटें भी खोली थी और उसके डेड ने की हुई सेटिंग की वजह से फायरवाल ने इंटरनेट डिसेबल कर दिया था. मुझे लगा, इसमें इस इंडियन प्रोफ़ेसर की क्या गलती है…..हरेक जवान लड़की को चुदाई के अरमान होते है. लेकिन जब मैंने इन लिंक्स को देखा तो चोंक जरुर गया क्यूंकि इनमे गेंगबेंग और डीपथ्रोट के भी लिंक थे. मैंने लिंक डिलीट नहीं किये लेकिन सेटिंग चेंज कर के  पीसी को सही कर दिया. प्रियंका मेडम तभी चाय ले कर रूम में आई, मैंने उसे कहा, “यह हो गया है मेडम…आप चेक कर लो.”   मेडम निचे बैठी मेरी नजर अब उसके भारी इंडियन चुंचो पर थी, मैंने उसे कहा, “आप इंटरनेट ओन कर के देख लो”….मैं अभी भी उसके चुंचे ही देख रहा था….! मेडम बोली, “शिव क्या देख रहे हो.” मैं हडबडा गया और बोला, “कुछ नहीं मेडम” अब मेडम जो बोली वह मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था, उसने कहा, “खोल के दिखाऊं” मैं हक्काबक्का था पर मेडम तो सच कहे रही थी क्यूंकि उसने तुरंत अपना ब्लाउज मुझे दिखाते हुए साडी का पल्लू एक तरफ कर दिया, उसके जवान चुंचे 34 की साइज़ के तो होंगे ही और वह बदन पर एकदम लचे हुए थे. मेडम और मेरी आँखे मिली और उसकी आँखों में मुझे वासना का कीड़ा नजर आ गया. मैं भी अपनी जगह से उठ खड़ा हुआ और उसके समीप जा कर मैंने उसके बड़े बड़े चुन्चो को हाथ में लेकर दबाने लगा. मेडम का एक एक चुंचा ढाई किलो का था और मेरे हाथ में नहीं आ रहा था, मैं अब दोनों इंडियन देसी स्तन को हाथ में ले कर दबाने लगा. मेडम ने अब ब्लाउज खोल दिया और साड़ी और एक एक कर के अपने सारे कपडे उतार दियें, मेरा लंड पेंट के अंदर ही उछल पड़ा, क्या साफ़ चूत थी यारो हलकी गुलाबी और उसके उपर बड़े बड़े दो लिप्स. मैंने अपना हाथ अब मेडम के चूत के उपर रख दियां और मैं उसकी चूत को सहेलाने लगा, मेडम ने अब धीमे से मेरे शर्ट के बटन बिलकुल सेक्सी तरीके से खोलने शरु कर दियें, उसका हाथ शर्ट खोलने के बाद उसका हाथ मेरे लंड के उपर जींस निकालेबिना आ गया और वोह उसे दबाते हुए बोली, “शिव बंदूक तो बड़ी है तुम्हारी, गोलियां निकली है कभी इस से…!” मेडम को ऐसा बोलते सुनके मुझे अजीब और उत्तेजक दोनों एक साथ लगा, मैं कुछ बोला नहीं और उसे जोर से अपने आगोश में ले दबोचा, मेडम के सेक्सी इंडियन चुंचे मेरे छाती से टकराने लगे और मैं जैसे उन्हें अपनी छाती से दबाता था मेडम के मुहं से आहिस्ता आहिस्ता सिसकारियाँ निकलती थी. मैंने अब धीमे से अपनी जींस निकाल दी और प्रियंका मेडम तुरंत अपना हाथ मेरे लंड के उपर ले गई, उसने अंडरवेर उतारने का भी वक्त नहीं दिया और वह लंड को उपर से ही सहलाने लग पड़ी, मुझे उसके प्रत्येक स्पर्श से अलग ही रोमांच आ रहा था, अब मेडम ने मेरी चड्डी खोल दी और वह मेरे लंड को देख के मन ही मन हंस रही थी, उसे शायद आज अपनी साइज़ मिली थी क्यूंकि मेरा लंड बहुत ही तगड़ा था. मेडम ने मुहं खोल के आ किया और लंड को चोकोलेट बार की तरह चूसने लग गई. मैं इस सुखद आश्चर्य को कैसे हजम कर रहा था यह केवल मुझे ही पता था. मेडम इस इंडियन लोडे को जम के चूसने लग पड़ी और उसके हाथ मेरी गांड के उपर रखे हुए थे, मैंने अपना लंड मेडम के मुहं में धकेलना शरू कर दिया और मेडम चप्प्पप्प्प…चास्स्स्सस्स्स्स…..चोऊऊऊ…..चो…चो….करते हुए लंड को चुसे जा रही थी. मैंने अब अपना लंड उसके मुहं से निकाला और पता नहीं के इस सेक्सी इंडियन जवान मेडम को क्या सूझी उसने मेरा लंड हाथ में लेकर अपने निपल पर फेरना चालू किया, वोह बारी बारी एक एक निपल पर लंड को घिस रही थी, लंड चिकना होने की वजह से इस घिसाहट में एक अलग मजा मुझे भी आ रहा था. मेडम अब उठ खड़ी हुई और वह वही पर बैठक खंड के टेबल पर लेट गई, मैंने उसकी टाँगे खोली और अपना लंड लेके मैं भी पलंग पर चढ़ बैठा, यह पलंग सोने वाला नहीं बल्कि बेठने वाला था और मुश्किल से एडजस्ट हो पा रहे थे हम दोनों इस के उपर. मैंने अपना लंड धीमे से मेडम की चूत पर रखा और एक हलका झटका दे कर उसको इस चूत के अंदर धकेल किया, मेडम ने अपने होंठो को अपने दांतों के निचे दबाया और वह मेरी तरफ नजर कर राही थी, उसकी आँखों में संतोष के भाव थे और मैंने एक झटका और दे कर अब लंड को अंदर बहार करना चालू कर दिया, प्रियंका मेडम के सेक्सी इंडियन चुंचे इधर उधर उछल रहे थे जिनको अब मैंने अपने हाथ में लेकर दबाने लगा. मेरा लंड बिना रोकटोक इस देसी चूत के दरवाजे के अंदर बहार हो रहा था, शायद मेडम पहेले से ही बहुत चुदक्कड थी और इस लिए चूत उसकी फ़ैल चुकी थी और लंड इसलिए आराम से अंदर बहार हो रहा था वरना पहेले लंड डालो तो लडकियाँ अक्सर चिल्लाने लगती है…! करीब तिन चार मिनिट तक मैंने मेडम को ऐसे चोदा औ फिर मैंने उसके दोनों पग इस तरह अपने कंधे पे चढ़ाये के उसकी झांघे मेरे कंधो पर थी, जी हाँ मिशनरी पोजीशन, और अब में चप चप करके उसकी चूत को मारने लगा, यह पोजीशन सही थी क्यूंकि लंड अन्दर तक जा रहा था और इसमें मुझे कुछ ज्यादा ही रोमांच आया रहा था, और तो और मेडम भी इस पोजीशन में सिसकारियाँ कर रही थी. मैंने जोर जोर से इसकी इंडियन चूत को चोदना चालू रखा और 10 मिनिट की चुदाई के बाद मेरा लंड निढाल हो गया, सारा माल मलीदा इस देसी चूत के अंदर निकलने लगा. मैं मेडम के ऊपर ही दो मिनिट तक पड़ा रहा, थोड़ी देर बाद वो कोफ़ी बना के लेके आई और उसने कोफ़ी पिने के बाद मेरे लंड को फिर मसलना चालू कर दिया. अब की बार तो मैंने प्रियंका मेडम की 20 मिनिट तक लगातार चुदाई कर दी और फिर मैं अपने घर की और चल पड़ा, उसने मुझे ड्रॉप करने के लिए कहा लेकिन में चाहता था की हमें कोई और देखे ना, क्यूंकि कुछ लोडू लोग चुदाई का सेटिंग बिगाड़ देते है और मुझे यह इंडियन चूत को लम्बे समय तक लेना था क्यूंकि इस एक्जाम में पास होने पर में क्लास में इस सब्जेक्ट में टॉपर भी तो हो सकता था…..! Aug 26, 2016Desi Story

वो बोला नहीं लेकिन मेरे दुबारा पूछने पर वो बोला की, उसके चचेरे भाई ने एकबार गाओं मे उसके साथ ऐसा किया था मैने उससे पूछा की उसके चचेरे भाई की उमर क्या हे तो वो बोला की वो भी उसके बराबर का ही हे, मैने उससे जिगयसवाश पूछा की तुम डॉन वन क्या क्या किया तो वो शर्मा गया, मैने उसकी लुल्ली को पकड़ लिया और जैसे मूठ मरते हैं वैसे आयेज पीछे करने लगा, उसने आँखे बंद कर ली और शरीर को ढीला छोड़ दिया, लंड के साइड मे हल्क भूरे भूरे बाल थे, उसके सर के बाल और आँखो का कलर भी भूरा ही था, ट्यूब लाइट की रोशनी मे उसका चिकना सुडोल शरीर बहुत खूबसूरत लग रहा था, मैने अपने दोस्तों से सुन रखा था की लड़कियों को लंड चूसने मे बहुत मज़ा आता हे, इस समय तो मुझे राज किसी कमसिन लड़की से कम नहीं लग्रहा था, मैने उसे लंड चूसने को कहा तो उसने माना कर दिया, मैने अपना लंड उसके होंठो से लगा दिया तो उसने लंड मुँह मे ले लिया मुझे बहुत अक्चा लगने लगा, मैने उसके मुँह को छोड़ना शुरू कर दिया था, वो भी मेरे लंड को बाकचों की तरह चूस रहा था, थोड़ी देर चूसने के बाद उसने लंड को बाहर निकाल दिया और दूसरी तरफ खिसक गया, उसने अभी भी अपनी आँखे बंद कर रखी थी और अपनी लुल्ली पकड़ रखी थी, अब मेरी हवस और बढ़ने लगी थी मैने वो काम आज करने की तान ली थी जो काम आज तक मैने सोचा भी नहीं था मैने राज को बिस्तर पे उल्टा कर दिया और उसके उपर चाड गया , मेरा लंड उसकी गांद पर था, मैने लंड को उसकी गांद मे डालना चाहा लेकिन सफलता नहीं मिली, मैने सुन रखा था की आयिल या क्रीम लगाने से लंड छूट मे आसानी से चला जाता हे तो मैने सोचा की गांद मे भी उसी फार्मूले का पर्योग किया जाए और मैने पलंग के सिरहाने रखी नविया क्रीम की डिब्बी मे से क्रीम निकाल कर अपने लंड पर मूठ मरने वाली स्टाइल मे लगा ली, और राज की चूतड़ मे अपना 6.5″लंबा और मोटा लंड गूसने के लिए भिड़ा दिया, राज ने पलटना चाहा तो मैने उसे कस कर पकड़ लिया और अपना लंड उसकी गांद के छेड़ पर टीका कर ज़ोरदार धक्का दिया जो शायद मुझे नहीं देना चाहिए था, वो बुरी तरह छत पता गया, मेरा लंड का सुपरा अंदर घुस चुका था, राज इधर उधर छत पता रहा था , ये सब मेरी वजह से हुआ था क्योंकि मैं भी नया खिलाड़ी था, मैने राज को अपनी पकड़ से छूटने नहीं दिया और अपना दबाव उसपर बनाए रक्खा नीतीजा ये हुआ की लंड धीरे धीरे पूरा उंड़र समा गया.

READ  प्रोफेसर से चुदाई

राज सी..सी.. की आवाज़ करने लगा वो मुझे कहने लगा की भैया बाहर निकालो ….प्लीज़…. भैया.. बाहर निकालूऊ… बहुत दर्द हो रहा हे , उसकी गांद के उंड़र बहुत गर्मी थी, मैने लंड को धीरे धीरे अंदर बहरा कर्मा शुरू किया … थोड़ी देर मे राज का शरीर तोड़ा ढीला पड़ने लगा, मुझे उसकी गांद मरने मैं बहुत मज़ा आ रहा था, मुश्किल से 10 मिनिट और मैं उसको रगड़ता रहा उसके बाद मेरा माल उसकी गांद मे झड़ने लगा, ऐसे करते समय राज मेरे लंड को गांद मे भींचने लगा था, मैं उसी के उपर ढेर हो गया और उसे किस करने लगा, ….. थोड़ी देर मे मैं उठा और बातरूम मे चला गया……. इसके बाद मेरे पास 4 रतायं और थी जिनका एक्सपीरियेन्स मैं आपको अगली कहानी मे लिखूंगा जिसकी वजह से आज जब की मैं 22 साल का हो चुका हूँ लेकिन जब भी कोई क्यूट, सेक्सी, टीन देखता हूँ तो मेरा दिल दोल उठता हे

Desi Story

Related posts:

मैं अकेली और चोदने बाले तीन जम कर चोदा तीनो लड़को ने Sex Stories
बुआ और उनकी दोनों बेटियों को चोदा Desi Family Sex Stories
सेक्सी गर्ल की तरसती हुई चुत की ठुकाई
पड़ोसन भाभी की चुदाई
रूपा की मस्त चुदाई
प्रेमी ने चोद दिया
मौसी की लड़की की सिल तोड़ चुदाई
लंड ले कर काम सीखा
दिव्या भाभी के साथ पूरा मजा
मेरे दोस्त की सेक्सी माँ मनीषा
भाईयों और बहनों का ग्रुप सेक्स
उसकी शादी मेरी सुहागरात
अंजली की दूसरी सुहागरात
मेरी चूत की गर्मी को मेरा भाई दूर
मज़े ले कर भाबी को प्रेग्नेंट करदिया
बेटी ही नहीं माँ की भी चुदाई हुई
रोक न सका फिल्म हाल में चुद गयी
नौकरानी की बेटी की चुदाई
पति के सामने चुदाई दुसरे लंड से
कौमार्य विसर्जन - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya
पत्नियों की अदला बदली - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya
Indian sex photos, hot indian girlfriend pics, best indian porn
Caution | Sex Story Lovers
पड़ोसन को ठोका | Hindi Sex Kahani ,Kamukta Stories,Indian Sex Stories,Antarvasna
जोर का धक्का देकर माँ के गांड मे लंड घुसा दिया
भाभी की प्यास ने जीगोलो बनाया
दो बहनों ने पार्क में मजे किये
वाइफ स्वैपिंग (पार्ट – १)
बहन का जबरजस्त गैंगबैंग : प्रॉपर्टी के डीलर मेरी बहन को गोद में उछाल उछाल के चोद रहे थे
Jacqueline Fernandez Hot Pole Dancing Bikini Outfit

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *