चुदासा फेयरवेल

मेरी एक्स गर्ल फ्रेंड गिन्नु मेरा सच्चा प्यार था लेकिन उसको पढ़ने के लिए यूं एस जाना था और मैं यहीं रह गया, लेकिन जाते जाते गिन्नु नए मुझे वो सुख दिया जो कोई और गर्ल फ्रेंड मुझे नहीं दे पाई. जब गिन्नु नए मुझे बताया कि उसका एडमिशन यूं एस में कन्फर्म हो गया है और वो अगले हफ्ते चली जाएगी तो मैं मायूस सा बैठा अपनी कॉफ़ी के झाग से खेल रहा था, गिन्नु मेरे मन की बात समझ गयी थी सो उसने मुझे कहा “तुम चिंता मत करो हम लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप भी तो रख सकते हैं न” पर मेरा मन नहीं माना क्यूंकि मेरा मन्ना है कि शहर से दूर दिल से दूर. गिन्नु का फ़ोन बजा और वो मेरे गले लग कर वहां से चली गयी लेकिन रात को उसका मेसेज आया “मेरे साथ गोआ चलोगे” मैंने अनमने ढंग से हाँ कर दिया तो उसने मुझे अगले ही मेसेज में मुंबई से गोआ की टिकट्स भेज दी और बोली “कल सुबह निकलेंगे”.

 

मैंने जल्दी जल्दी में अपना बैग पैक किया और हम दोनों अगली सुबह ही गोआ के लिए रवाना हो गए, गोआ पहुँच कर हमने एक ठीक ठाक से होटल में कमरा ले लिया और बाहर निकले. दिन भर मौज मस्ती करने के बाद में हम दोनों एक डिस्क में गए और जमकर ड्रिंक और डांस किया, वापस अपने होटल पहुंचे तो गिन्नु नए अपने बैग में छुपा कर रखी वोडका की बोतल निकाली और हमने उस में से नीट शॉट्स लगाए. गिन्नु ने मुझे कहा “मैं सिर्फ तुमसे ही प्यार करती हूँ और इसीलिए तुम्हे ये दे रही हूँ” और ये कहकर उसने अपना टॉप उतार दिया अब मेरे सामने गिन्नु के भरे भरे चूंचे उसकी पिंक ब्रा में फड़ फड़ा रहे थे. मैंने गिन्नु को गौर से देखा तो उसने अपनी जेग्गिंग्स भी उतार दी और अन्दर उसकी पैंटी भी पिंक कलर की थी.

गिन्नु मेरे सपनो की रानी मेरे दिल की मलिका मेरे सामने नंगी खड़ी थी, मैं उसे हग कर लिया और कहा “आई लव यू गिन्नु” और हम दोनों एक दुरे को चूमने लगे. गिन्नु के होंठ इतने सॉफ्ट थे की मैं उनका रस लेते लेते खो गया और गिन्नु भी मेरे होठों को चूमते हुए अपनी आँखें बंद किये  इतनी खूबसूरत लग रही थी की मैं उसे देखते हुए चूमता ही रहा. गिन्नु नए मेरा हाथ ले कर अपने भरे हुए चूचों पर रख दिया, मैंने गिन्नु के भरे हुए चूचों को जमकर कर मसलना और चूमना शुरू कर दिया तो गिन्नु ने सिस्करियाँ भरते हुए अपनी पिंक ब्रा उतार दी और मैंने उसके चूचों पर सजी सुंदर निप्पलों को चूसना शुरू कर दिया. गिन्नु लगातार “ओह्ह आह्ह चुसो इन्हें और मुझे पागल कर दो बेबी” ये सब सुन सुन कर मैं और उत्तेजित हो गया.

READ  बीवी की सहेली बनी रखैल

मैं इतना खुश और बावला हो गया था कि मुझे होश ही नाहिंन था और मैंने गिन्नु को पूरा नंगा कर के उसके पूरे बदन को चूमना और चाटना शुरू कर दिया, गिन्नु की सिस्कारियां बढती जा रही थीं वो जा कर सोफे पर बैठ गयी और उसने अपनी टांगें फैला दी जिस में से उसकी खिली हुयी बिना बालों वाली चिकनी और गुलाबी चूत सामने नज़र आरही थी. मैंने उसकी चूत को चूमा और उसमें अपनी जीभ लगा कर चाटना शुरू किया तो वो बोली “ऊऊह मुझे लगा था तुम इसमें अपना डिक डालोगे लेकिन तुम तो बहुत समझदार हो” ये कह कर उसने मेरे सर के बालों को पकड़ लिया और मेरा मुंह अपनी चूत में दबा दिया जिस से मैंने उसकी चूत में लगभग घुस कर ही अपीन चूत चाटना शुरू कर दिया. गिन्नु के क्लिटोरिस को अपनी जीभ से दो तीन मिनट छेड़ने के बाद गिन्नु झड़ गयी और उसकी चूत की मलाई मेरे मुंह पर फ़ैल गयी.

गिन्नु इस कदर खुश हुई कि उसने मेरे होठों को फिर से चूम लिया और सरक कर मेरे नाभि पर अपने होंठ टिका दिए, नाभि को थोड़ी देर चाटने से मेरा लंड और तन गया और मेरे बरमूडा में से साफ़ नज़र आने लगा. गिन्नु नए मेरे लंड को आज़ाद किया और बोली “मेरी जान आज तुम्हारे लंड को मैं ऐसा खुश करुँगी की तुम भी याद करोगे” और इतना कह कर वो मेरे लंड को उसकी पूरी लम्बाई तक चाटने लगी, मेरे लंड की चमड़ी खिसका कर उसने मेरे लंड के टोपे को उसकी रिम को अपनी जीभ से ऐसे चाता की मेरा दिल खिल गया. गिन्नु मेरे बॉल्स को चुस्ती मेरे लंड पर जीभ फिराती अपने बालों को संभालती हुई इतनी खुश लग रही थी और उसका मुसकुरात चेहरा मेरे लंड के आस पास किसी खिले फूल की तरह लग रहा था. गिन्नु नए मेरे लंड को हिला हिला कर इतने मज़े से चूसा कि मेरे लंड का सारा गाढ़ा और मलाईदार माल निकल कर उसके मुंह में भर गया जिसे पीने में उसने कोई हुज्जत नहीं दिखाई, उसका लंड चूसने का लालच शायद खत्म नहीं हुआ था तो वो मेरे लंड को अब भी चुस्ती रही जिस से मेरा लंड फिर से तन गया.

READ  बहन चुदवाकर लंड की दीवानी बन गई

गिन्नु नीचे कारपेट पर लेट गयी और बोली “अब शान नहीं हो रहा यार प्लीज़ फक मी ना” मैंने अपना लंड सीधा किया और गिन्नु की टांगें चौड़ी कर के अपना लंड एक ही बार में उसकी चूत में फँसा दिया जिस से उसकी आह निकल गयी, गिन्नु नए मेरी गांड पर ज़ोर से चिकोटी काटी तो मेरा जोश बढ़ गया और उसे ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. गिन्नु लगातार उछल उछल कर मेरा लंड ले रही थी, और मेरी गांड पर चांटे लगा रही थी कि अचानक ही उसके हाथ में मेरी बाथरूम स्लीपर्स आगई जो कि गीली थी सो उसने उस चप्पल से मेरी गांड पर ज़ोर ज़ोर से मारा तो मेरा जोश और बढ़ गया और मेरे धक्के तेज़ हो गए. इधर मेरी गांड पर चप्पल के चांटे पद रहे थे और उधर मैंने गिन्नु के चूचों को मसल मसल कर उन्हें दबा रहा था.

हम दोनों इस सेक्स क्रिया के चरम पर थे और कुछ तेज़ धक्कों के साथ हम दोनों झड़ गए, मैंने ऐतिहात रखते हुए उसकी चूत में से लंड बाहर निकाल लिया और अपना सारा माल गिन्नु की गुनगुनी चूत पर फैला दिया. मैं अब भी गिन्नु के ऊपर पड़ा हुआ था और हम दूनों एक दुसरे को चूम रहे थे. थोड़ी देर के लिए इसी हालत में पड़े रहने से हम दोनों की आँख लग गयी और जैसे ही उठे हम दोनों बाथरूम में गए और साथ में नहाये, बाथरूम में भी मैंने उसके चूचों और चूत को जमकर चाता और उसकी चूत का रस दुबारा पिया. गिन्नु नए भी मेरे लंड का स्वाद लिया और नहाने के उस दो घंटे के सेशन में हमने बाथटब में भी चुदाई की. गोआ के उन तीन दिनों में हमने अमूमन हर तरह से एक दुसरे को सेटिस्फाई किया. जब गिन्नु यूं एस जाने लगी तो बोली “मैं तुम्हे मिस करुँगी और जब भी इंडिया आउंगी सिर्फ तुम्हारी हो जाउंगी” लेकिन उसे यूं एस में कोई और मिल गया और मुझे यहीं रितिका मिली जो मेरी वाइफ है, पर गिन्नु के साथ वो गोआ वाली चुदाई कभी नहीं भूलूंगा.

Aug 13, 2016Desi Story
READ  प्रोफेसर ने चूत स्टूडेंट से चुदवाई हेल्लो दोस्तों मेरा नाम शिव है मैं एक मध्यम बांधे का गेहूँवन का लड़का हूँ, मेरी उम्र 21 साल है. मैं आज आपको मैंने अपने इकोनॉमिकस की टीचर की चुदाई की तब की कहानी बताऊंगा…यह टीचर का नाम प्रियंका है. वैसे तो मैं कोलेज के पिछले दो सालो मैं कितनी ही इंडियन औरत और इंडियन गर्ल्स की चुदाई कर चूका था लेकिन मेरे लिए यह इंडियन चूत बहुत अलग थी और यह इंडियन चूत शायद मैं जिंदगी भर याद रखूँगा.   हमारे कोलेज मैं प्रियंका मेम का पहेला दिन मुझे आज भी याद है, वह किसी कोलेज गर्ल के जैसी ही लाग रही थी और यही धोखा सभी को हुआ था, कितनो ने तो उस दिन इस इंडियन सेक्सी लड़की को पटाने के तरीके भी सोचे थे, लेकिन जब पता चला की यह तो नई नई पढाई ख़त्म कर के बनी हुई प्रोफ़ेसर है तो कितनो के दील टूट गए थे. वैसे इस इंडियन सेक्सी मेडम के क्लास को कोई मिस नहीं करता था और लड़के तो कभी नहीं….! एकाद महिना हो गया इस सेक्स बम को क्लास में पढ़ाते हुए और उसकी और मेरी अच्छी जमने लगी थी, वोह अक्सर मुझे अपने पर्सनल काम के लिए बुलाती थी, लेकिन आज तक इसने मुझे अपने घर नहीं बुलाया था किसी भी काम से….उसके सारे काम स्टाफ रुम स्टेशनरी वगेरह के ही रहेते थे. मैं मनोमन सोचने लगा बस एक बार चांस दे दो तुम्हारी इंडियन चूत बजा ना दूँ तो मेरा नाम भी शिव नहीं. उस दिन सुबह सवेरे मेरी किस्मत खुल गई, प्रियंका मेडम ने मुझे केंटिन के बहार ही पकड़ा और कहा, “शिव आज मेरे घर आओगे. मुझे घर पे कुछ काम है ?” मेरे मन मे लड्डू फूटने लगे थे, मैंने कहाँ, “जरुर मेडम, पर मैंने आपका घर नहीं देखा है….!” प्रियंका मेडम, “एक काम करेंगे, शाम को मैं तुम्हे अपनी स्कूटी पर ही लिफ्ट दे दूंगी” दोपहर ही हुई थी और मेरे लिए एक एक पल निकालना भारी था, मैंने बाथरूम जा के एक बार लंड को अपने हाथ में लेकर इंडियन पोर्नस्टार प्रियंका चोपरा और प्रियंका मेडम के साथ थ्रीसम के ख़याल करते हुए हस्तमैथुन कर दियां. लंड एक घंटे में फिर से मुझे हेरान कर रहा था, मैं सोच रहा था की कब मैं मेडम के साथ जाऊं और कोई चांस शायद निकल आयें. शाम उस दिन बहुत देर से हुई, आखिर कार शाम के कुछ 5 बजे प्रियंका मेडम लायब्रेरी से निकली और बोली, “चलो शिव” उसने अपनी स्कूटी निकाली और वह अपने गोल गोल कूले इस स्कूटी की सिट पर रख के बैठ गई, मैं पीछे बैठ गया. मेरी नजर कभी उसके कूलों पर पड़ती तो कभी उसके कंधो पर, साड़ी के ब्लाउज़ के उपर के भाग में इस इंडियन टीचर के गोरे कंधे का भी अपना नशा था, मेरा लंड अब फिर से पेंट में ऊँचा हो रहा था. हम लोग मेईन मार्केट से होते हुए निकले और रास्ते में गर्दी होने के कारण कई बार ब्रेक लगाना पड़ा, मेरे दिमाग में शैतानी सूझी और मैं धीरे से आगे सरक गया, अब जब भी मेडम ब्रेक लगाती वह ना चाहते हुए भी मुझ से अपनी कमर टकरा देती थी. उसका घर आ गया और हम निचे उतरे, मेरा लंड मेरी जींस में भी काट रहा था. घर में दाखिल होते ही मेडम ने कहा, “मेरे मम्मी डेडी दो दिन से इंदोर गए है और मेरे पीसी मेरे डेड के पीसी में शायद वायरस आ गया है तो मुझे वह ठीक करवाना था तूम से. मैंने तुम्हे अक्सर लायब्रेरी के पीसी पर देखा है और सोचा की तूम यह कर लोगे.” मैंने कहा, “देखते है मेडम…!” उसने मुझे पीसी पर से कवर हटा के दिया और मैं वही कुर्सी में बैठकर पीसी चालू कर के चेक करने लगा, स्केन के रिज़ल्ट देख के मेरी आँखे खुली रह गई, मेडम ने उस पे हिंदी सेक्स स्टोरीस और वीडियो ही नहीं बल्क़ि पोर्न वीडियो वाली साइटें भी खोली थी और उसके डेड ने की हुई सेटिंग की वजह से फायरवाल ने इंटरनेट डिसेबल कर दिया था. मुझे लगा, इसमें इस इंडियन प्रोफ़ेसर की क्या गलती है…..हरेक जवान लड़की को चुदाई के अरमान होते है. लेकिन जब मैंने इन लिंक्स को देखा तो चोंक जरुर गया क्यूंकि इनमे गेंगबेंग और डीपथ्रोट के भी लिंक थे. मैंने लिंक डिलीट नहीं किये लेकिन सेटिंग चेंज कर के  पीसी को सही कर दिया. प्रियंका मेडम तभी चाय ले कर रूम में आई, मैंने उसे कहा, “यह हो गया है मेडम…आप चेक कर लो.”   मेडम निचे बैठी मेरी नजर अब उसके भारी इंडियन चुंचो पर थी, मैंने उसे कहा, “आप इंटरनेट ओन कर के देख लो”….मैं अभी भी उसके चुंचे ही देख रहा था….! मेडम बोली, “शिव क्या देख रहे हो.” मैं हडबडा गया और बोला, “कुछ नहीं मेडम” अब मेडम जो बोली वह मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था, उसने कहा, “खोल के दिखाऊं” मैं हक्काबक्का था पर मेडम तो सच कहे रही थी क्यूंकि उसने तुरंत अपना ब्लाउज मुझे दिखाते हुए साडी का पल्लू एक तरफ कर दिया, उसके जवान चुंचे 34 की साइज़ के तो होंगे ही और वह बदन पर एकदम लचे हुए थे. मेडम और मेरी आँखे मिली और उसकी आँखों में मुझे वासना का कीड़ा नजर आ गया. मैं भी अपनी जगह से उठ खड़ा हुआ और उसके समीप जा कर मैंने उसके बड़े बड़े चुन्चो को हाथ में लेकर दबाने लगा. मेडम का एक एक चुंचा ढाई किलो का था और मेरे हाथ में नहीं आ रहा था, मैं अब दोनों इंडियन देसी स्तन को हाथ में ले कर दबाने लगा. मेडम ने अब ब्लाउज खोल दिया और साड़ी और एक एक कर के अपने सारे कपडे उतार दियें, मेरा लंड पेंट के अंदर ही उछल पड़ा, क्या साफ़ चूत थी यारो हलकी गुलाबी और उसके उपर बड़े बड़े दो लिप्स. मैंने अपना हाथ अब मेडम के चूत के उपर रख दियां और मैं उसकी चूत को सहेलाने लगा, मेडम ने अब धीमे से मेरे शर्ट के बटन बिलकुल सेक्सी तरीके से खोलने शरु कर दियें, उसका हाथ शर्ट खोलने के बाद उसका हाथ मेरे लंड के उपर जींस निकालेबिना आ गया और वोह उसे दबाते हुए बोली, “शिव बंदूक तो बड़ी है तुम्हारी, गोलियां निकली है कभी इस से…!” मेडम को ऐसा बोलते सुनके मुझे अजीब और उत्तेजक दोनों एक साथ लगा, मैं कुछ बोला नहीं और उसे जोर से अपने आगोश में ले दबोचा, मेडम के सेक्सी इंडियन चुंचे मेरे छाती से टकराने लगे और मैं जैसे उन्हें अपनी छाती से दबाता था मेडम के मुहं से आहिस्ता आहिस्ता सिसकारियाँ निकलती थी. मैंने अब धीमे से अपनी जींस निकाल दी और प्रियंका मेडम तुरंत अपना हाथ मेरे लंड के उपर ले गई, उसने अंडरवेर उतारने का भी वक्त नहीं दिया और वह लंड को उपर से ही सहलाने लग पड़ी, मुझे उसके प्रत्येक स्पर्श से अलग ही रोमांच आ रहा था, अब मेडम ने मेरी चड्डी खोल दी और वह मेरे लंड को देख के मन ही मन हंस रही थी, उसे शायद आज अपनी साइज़ मिली थी क्यूंकि मेरा लंड बहुत ही तगड़ा था. मेडम ने मुहं खोल के आ किया और लंड को चोकोलेट बार की तरह चूसने लग गई. मैं इस सुखद आश्चर्य को कैसे हजम कर रहा था यह केवल मुझे ही पता था. मेडम इस इंडियन लोडे को जम के चूसने लग पड़ी और उसके हाथ मेरी गांड के उपर रखे हुए थे, मैंने अपना लंड मेडम के मुहं में धकेलना शरू कर दिया और मेडम चप्प्पप्प्प…चास्स्स्सस्स्स्स…..चोऊऊऊ…..चो…चो….करते हुए लंड को चुसे जा रही थी. मैंने अब अपना लंड उसके मुहं से निकाला और पता नहीं के इस सेक्सी इंडियन जवान मेडम को क्या सूझी उसने मेरा लंड हाथ में लेकर अपने निपल पर फेरना चालू किया, वोह बारी बारी एक एक निपल पर लंड को घिस रही थी, लंड चिकना होने की वजह से इस घिसाहट में एक अलग मजा मुझे भी आ रहा था. मेडम अब उठ खड़ी हुई और वह वही पर बैठक खंड के टेबल पर लेट गई, मैंने उसकी टाँगे खोली और अपना लंड लेके मैं भी पलंग पर चढ़ बैठा, यह पलंग सोने वाला नहीं बल्कि बेठने वाला था और मुश्किल से एडजस्ट हो पा रहे थे हम दोनों इस के उपर. मैंने अपना लंड धीमे से मेडम की चूत पर रखा और एक हलका झटका दे कर उसको इस चूत के अंदर धकेल किया, मेडम ने अपने होंठो को अपने दांतों के निचे दबाया और वह मेरी तरफ नजर कर राही थी, उसकी आँखों में संतोष के भाव थे और मैंने एक झटका और दे कर अब लंड को अंदर बहार करना चालू कर दिया, प्रियंका मेडम के सेक्सी इंडियन चुंचे इधर उधर उछल रहे थे जिनको अब मैंने अपने हाथ में लेकर दबाने लगा. मेरा लंड बिना रोकटोक इस देसी चूत के दरवाजे के अंदर बहार हो रहा था, शायद मेडम पहेले से ही बहुत चुदक्कड थी और इस लिए चूत उसकी फ़ैल चुकी थी और लंड इसलिए आराम से अंदर बहार हो रहा था वरना पहेले लंड डालो तो लडकियाँ अक्सर चिल्लाने लगती है…! करीब तिन चार मिनिट तक मैंने मेडम को ऐसे चोदा औ फिर मैंने उसके दोनों पग इस तरह अपने कंधे पे चढ़ाये के उसकी झांघे मेरे कंधो पर थी, जी हाँ मिशनरी पोजीशन, और अब में चप चप करके उसकी चूत को मारने लगा, यह पोजीशन सही थी क्यूंकि लंड अन्दर तक जा रहा था और इसमें मुझे कुछ ज्यादा ही रोमांच आया रहा था, और तो और मेडम भी इस पोजीशन में सिसकारियाँ कर रही थी. मैंने जोर जोर से इसकी इंडियन चूत को चोदना चालू रखा और 10 मिनिट की चुदाई के बाद मेरा लंड निढाल हो गया, सारा माल मलीदा इस देसी चूत के अंदर निकलने लगा. मैं मेडम के ऊपर ही दो मिनिट तक पड़ा रहा, थोड़ी देर बाद वो कोफ़ी बना के लेके आई और उसने कोफ़ी पिने के बाद मेरे लंड को फिर मसलना चालू कर दिया. अब की बार तो मैंने प्रियंका मेडम की 20 मिनिट तक लगातार चुदाई कर दी और फिर मैं अपने घर की और चल पड़ा, उसने मुझे ड्रॉप करने के लिए कहा लेकिन में चाहता था की हमें कोई और देखे ना, क्यूंकि कुछ लोडू लोग चुदाई का सेटिंग बिगाड़ देते है और मुझे यह इंडियन चूत को लम्बे समय तक लेना था क्यूंकि इस एक्जाम में पास होने पर में क्लास में इस सब्जेक्ट में टॉपर भी तो हो सकता था…..! Aug 26, 2016Desi Story

Content retrieved from: .

Related posts:

विधवा होने का फायदा उठाया मेरा बेटा
प्रेमी ने चोद दिया
सेक्स गलती नहीं है
भाभी को दो बच्चों की माँ बनाया
अंजली की दूसरी सुहागरात
Mummy ki chudai kar ke use pregnant kiya
मैं नन्ही सी जान और मुझे तीनो
गोरे बूब्स वाली काव्या की चुदाई
रंडी बनगई दोस्त की मम्मी
पूजा की बुर की धुनाई की
मोटा लंड चाहती थी मेरी बीवी
पड़ोसन सरदारनी की मस्त गांड
होटल में ले जाकर बड़ी दीदी की भोसड़ी चोदी
मेरी पत्नी माधुरी बेहद खूबसूरत और सेक्सी
चुदाई की क्लास ली बहन की
सबिता भाबी को नंगा करके चोदा भाग
गांव की प्यासी औरत - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya
जवान लड़की की बुर चुदाई की गर्म कहानी
My Sweet Sister | Sex Story Lovers
कविता को पसंद आया बनाना लंड
एक्स गर्लफ्रेंड की माँ को ब्लेकमेल किया
रुक जा यार कितना चोदेगा
Hindi Sex Kahani ,Kamukta Stories,Indian Sex Stories,Antarvasna
Seerat Kapoor Height, Weight, Age, Boyfriend, Biography & More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *