बेस्ट फ्रेंड ने चुदवाया

मेरा सर्किल काफी बड़ा है लेकिन बेस्ट फ्रेंड सिर्फ एक थी उसका नाम है अनामिका पेट नेम एनी, हम लोग कॉलेज टाइम से बेस्ट फ्रेंड्स थे. एक दुसरे से हर बात शेयर करना, सुख दुःख में काम आना, घूमना फिरना, पार्टी करना, सब कुछ बिलकुल जैसा दो लड़कों की दोस्ती में होता है. दिन में कम से कम एक बार तो मिल ही लेते थे, हम अपने अपने गर्ल फ्रेंड या बॉय फ्रेंड से इतनी बातें नहीं करते थे जितना आपस में करते थे. एक दिन एनी ने मुझे बताया की उसके मम्मी पापा बाहर जा रहे हैं और वो जम के दारू पार्टी करना चाहती है, मैं भी झट से तैयार हो गया क्यूंकि मेरे कैट के एक्ज़ाम्स के कारण मैंने भी कई दिनों से फुल टल्ली पार्टी नहीं की थी.

मैं शाम को एनी के घर पहुँचा साथ में रम भी ले गया क्यूंकि हम कॉलेज टाइम से रम ही ज्यादा पसंद करते थे, उसने भी टिक्के वगेरह ऑर्डर कर ही दिए थे. हमने उसके रूम की बालकनी में ही बीन बैग्स लगा लिए थे और वहीँ बैठकर पीने लगे. पीते पीते एनी ने बताया की उसका बॉय फ्रेंड जॉब की वजह से मलेशिया मूव कर रहा है और दो साल तक वहीँ रहेगा. मैंने कहा “तुम दुखी हो रही हो” वो बोली “यार जीनु वो सिर्फ करियर के पीछे भाग रहा है और मेरी कोई फ़िक्र ही नहीं है” तो मैंने कहा “उसका करियर भी तो तेरे लिए ही बढ़िया है” तो वो उखड़ गई “यार जैसे की मैं तो कुछ कमा  ही नहीं रही हूँ, हम शादी करेंगे और दोनों कमाएंगे तो भी मैनेज हो ही जाएगा न”.

बस इस के बाद आगे बात ना बढ़ाना ही हमने सही समझा और वैसे भी ढाबे वाला टिक्के वगेरह ले कर आ गया था, हमने और पी और स्नैक वगेरह लेने लगे, थोड़ा टल्ली होने के बाद एनी ने मुझसे कहा “मैं तुझे बहुत तंग करती हूँ न, कॉलेज के टाइम से ही मेरी हर प्रॉब्लम में तू मेरे साथ है’. मैंने उसे कहा “तो यार तू भी तो है न मेरे लिए हमेशा, बेस्ट फ्रेंड्स आर लाइक दिस ओनली” बस ये सुनते ही उस ने मुझे गले लगा लिया. हम दोनों नॉर्मली ऐसे करते ही थे लेकिन उस दिन थोडा अजीब लगा क्यूंकि ये बेस्ट फ्रेंड्स वाला हग नहीं था.

मैंने एनी को संभालते हुए उसके सर पर हाथ फेरा तो उस ने मेरा हाथ अपनी गांड पर रख दिया और हलके से दबा भी दिया, मैंने कहा “एनी तुझे चढ़ गई है, हम बेस्ट फ्रेंड्स हैं और तेरा बॉय फ्रेंड है आलरेडी”. एनी ने गहरी साँस ली और मुझसे देखने लगी, उसके साँस लेने में उसकी बड़े बड़े बोबे जो मेरे सीने से चिपके हुए थे ऊपर नीचे हो रहे थे. एनी ने कहा “हाँ मेरा बॉय फ्रेंड भी है और तू मेरा बेस्ट फ्रेंड है, लेकिन मुझे हमेशा तेरी ही ज़रुरत क्यूँ होती है – मैं इमोशनली तुझ पर ही डिपेंडेंट क्यूँ हूँ”, मैंने कहा “वो तो मैं भी हूँ लेकिन” इस लेकिन के बाद एनी ने मुझे बोलने नहीं दिया और मेरे होठों पर स्मूच कर लिया.

READ  चैटिंग करते करते चूत तक पहुंचा

मैंने भी पता नहीं क्या सोच कर उसे दूर नहीं हटाया और वो मेरे होठों को चूसती रही, थोड़ी देर में मैंने उसका हाथ अपने लंड पर महसूस किया जो अब गरमाने लगा था. मैंने कहा “एनी देख कुछ ऐसा ना हो जाए जिस पर कल हम पछताएँ” तो उस ने कहा “इस में पछताने जैसा कुछ नहीं है, ये मैं उस आदमी के साथ कर रही हूँ जो मुझे समझता है मैं उसे समझती हूँ और हम दोनों एक दुसरे का ख़याल रखने के लिए ही तो हैं”. मैं उसकी बात से सहमत तो था लेकिन एनी के साथ सेक्स करने में मुझे थोद्सा अजीब लग रहा था क्यूंकि मैंने कभी उसे उस नज़र से देखा नहीं था, और आज जो मैं देख रहा था वो ज़रा अलग था.

एनी अब मेरे लंड को मसल रही थी और हम दोनों एक दुसरे को बेतहाशा चूम रहे थे, एनी ने मेरे होठों को अपने दांतों में दबा रखा था और मेरे लेफ्ट हैण्ड को उस ने अपने  बोबे पर रख दिया. एनी के बोबे थर्टी एट की साइज़ के होंगे, उस ने ब्रा नहीं पहन राखी थी तो मैं भी उसके टी शर्ट के ऊपर से ही बोबों को मसलने लगा एनी उह उम्म्म आह्ह जैसी आवाजें निकाल रही थी. मैंने उसकी गरमा गरम स्थिति कर भांपकर उसे रूम में चलने का इशारा किया, हम दोनों रूम में आ चुके थे और मैंने उसे बेड पर लिटा दिया और फिर से उसके बोबों को मसलने लगा.

एनी का हाथ भी बराबर मेरे लंड पर चल रहा था, मैंने उसके निप्पल टटोल कर उन्हें अपनी ऊँगली की चुटकियों से हौले से दबाया तो वो चिहुँक उठी और बोली “मेरे बोबे पिएगा” मैंने कहा “हाँ तू मौका तो दे”. ये सुनते ही एनी ने अपनी टी शर्ट उतार दी, उसके बड़े बड़े बोबे मेरे आँखों के सामने झूल गए और मेरा अंदाज़ा भी सही था उसके बोबे वाकई थर्टी एट की साइज़ के थे और इतनी देर तक मसलने से और फूल गए थे. उसकी निप्पल्स भी तन चुकी थी और अब मेरे मुंह में थी, मैं एनी के बोबों का रस पी रहा था उसकी निप्प्ल्स से खेल रहा था उन्हें चूम चाट और दाँतों से हलके हलके काट भी रहा था.

एनी का बुरा हाल था क्यूंकि उसके बोबों को चूस चूस के मैं पूरा मज़ा दे रहा था, इसी एक्साइटमेंट में उसने मेरे बाल पकड़ कर खींच लिए और मेरा मुंह अपनी बोबों में इस कदर दबाने लगी की मेरी तो साँस ही घुट गई. मैंने एनी  से कहा “तुझे अच्छा लग रहा है न एनी” तो बोली “तू बस करता रह जीनु, आज मेरे जिस्म में आग लगा दे और अपनी दोस्ती का सच्चा सबूत दे दे” ये सुनते ही मैंने उसे पलट दिया और उसके बाल उसके कन्धों पर  डाल कर उसकी गर्दन से ले कर पूरी पीठ को चूमने लगा. एनी और गरम हो गई और उस ने अपना लोअर भी उतार दिया अब मैं धीरे धीरे उसकी गांड चूमता हुआ उसकी जाँघों पिंडलियों एड़ी और पंजों को चूम रहा था.

READ  पहली बार सेक्स कैसे हुआ

मैं एनी के जिस्म को वापस नीचे से चूमता हुआ जब ऊपर की तरफ आया तो वो पलट गई और मैं भी उसकी मंशा समझ गया था क्यूंकि वो निश्चित रूप से अब मुझसे अपनी चूत चटवाना चाहती थी. मैंने उसके घुटने – जांघ और चूत को चूमता हुआ उसके पेडू की तरफ बढ़ा तो उसकी सिसकारी निकल गई, एनी ने मुझे वापस अपनी चूत की तरफ धकेल दिया. शायद वो आज चुदने के लिए पहले से तैयार थी इसलिए उसकी चूत प्रोपेर्ली शेव्ड थी और बल्कि उस ने अपनी चूत पर बालों को ऐसे शेव किया था जिस से एक तीर के निशान सा उसकी चूत की तरफ इशारा करता हुआ बना हुआ था.

मैं उस तीर के निशान को देख कर मुस्कुरा दिया और उसे अपनी जीभ से सहला भी दिया, एनी ने एक जोर की सिसकारी भरी और वो भी मुस्कुरा कर मेरे बालों में हाथ फेरने लगी. मैंने सबसे पहले उसकी चूत के दाने को दो मिनट तक अपनी जीभ से छेड़ा और फिर धीरे धीरे प्यार से उसकी चूत चाटने लगा तो एनी ने कहा “तू अपनी गर्ल फ्रेंड की भी ऐसे ही चूत चाटता है क्या” मैंने कहा “नहीं यार प्रीती को ये सब पसंद नहीं है ना वो मुझसे करवाती है और ना ही खुद मेरा ओरल करती है”. एनी ने कहा मुझे तो ओरल करना और करवाना दोनों बहुत पसंद है”.

मैंने एनी की चूत में भारी बवाल मचा रखा था एनी की चूत में से गर्म गर्म झोंके निकल रहे थे और उन झोंकों के साथ ही एनी और भी  ज्यादा हॉर्नी लग रही थी. एनी की सिस्कारियां और ऊओह्ह अआह्ह्ह की आवाजें और तेज़ होती जा रही थी साथ ही वो चिल्ला भी रही थी “और चाटो मेरे दोस्त और चाटो, आज तक ऐसा मेरी चूत को किसी ने भी रॉयल एक्सपीरियंस नहीं दिया है और चाट जीनु और चाट”. यहाँ मैं उसकी चूत चाटने में व्यस्त था और एनी ज़ोर जोर से आवाजें करती हुए झड गई उसकी चूत की मलाई सब तरफ फैल चुकी थी.

एनी की मलाईदार चूत के जलवे को देखने के बाद मैंने कहा “अब बता कैसे चुदेगी” तो वो बोली “तेरे को क्या क्या आता है पहले वो तो कर” मैंने ये सुनते ही एनी को उसके कमरे में लगे एक बड़े से शीशे के सामने खड़ा किया और उसके दोनों हाथ दीवार पर टिकाने को कहा फिर उसके पीछे जा कर अपना लंड उसकी चूत में थोड़ा सा फँसा दिया जिस से उसकी ऊऊह की आवाज़ निकली अब उसके बोबे अपने हाथों में भींच कर मैंने जोर का धक्का लगाया और वो चिल्ला पड़ी “हाय भेनचोद पूरा डाल दिया क्या”. मैंने कहा “अभी नहीं अभी और डालना है” और पूरे जोर के साथ मैंने अपना आठ इंच लम्बा लंड उसकी चूत में घुसा दिया. एनी चिल्ला रही थी “डालने से पहले दिखा तो देता कितना बड़ा है, ऊपर ऊपर से तो ऐसा नहीं लग रहा था”, मैंने कहा “तुझे ही मेरे स्टाइल में चुदना था सो अब झेल”.

READ  कुछ इच्छाए पूरी हो गई कुछ अभी बाकि है

एनी को हर धक्के में स्वर्ग का सा अहसास हो रहा था, उसके बाल उसके चेहरे पर  झूल रहे थे जिन्हें वो बार बार हटाकर शीशे में खुद को चुदते देख रही थी और खुश हो रही थी लेकिन उसके हाथ दीवार पर बड़ी देर से टिके होने के कारण दुखने लगे थे. अब मैंने उसे पलंग पर घोड़ी बना दिया तो उसने अपनी छाती और मुंह को बेड पर टिका दिया और गांड उठा ली मैं  फिर उसके पीछे से चढ़ा और उसके खुले बालों को अपनी मुट्ठी में लगाम की तरह पकड़ कर खींच लिया, वो चीख पड़ी “साले मेरे बाल टूट जायेंगे” तो मैंने कहा “चुप चाप चुदती रह आवाज़ मत कर”.

एनी चुप तो हो गयी लेकिन मेरे लंड के प्रहार से वो फिर से “ऊऊओह आआह्ह मार दिया, जोर से चोद मेरे दोस्त, अपनी प्रॉपर्टी समझ कर चोद मुझे” ऐसे चिल्लाने लगी. ना मेरे धक्के रुक रहे थे और ना ही एनी की चुदने की इच्छा. पर इतनी देर तक घोड़ी बने रहने से भी एनी थक गई थी सो उस ने कहा “थोड़ी देर लिटा कर भी चोद ले अब थक रही हूँ मैं” तो मैंने उसे सीधा लिटाया और फिर से उसकी चूत में अपना लंडासुर पेल दिया. एनी मिशनरी से ज्यादा कम्फ़र्टेबल थी शायद और अब उसे मेरे धक्को से और मज़ा आने लगा था मैं भी उसके हिलते हुए बड़े बड़े बोबे देख देख कर उत्तेजित हो रहा था.

एनी ने मुझसे कहा “तुझे कसम है अब से तू मुझे रेगुलरली चोदेगा” मैंने कहा “मैं खुद यही कहना चाहता था, क्यूंकि तू बहुत मस्ती से चुदती है” तो वो बोली “इसी बात पर अब धक्के तेज़ लगाना  प्लीज़” मैनी अपने पूरे जोश में आ गया और तेज़ी से अपने लंड को एनी की गदराई चूत में अन्दर बाहर करने लगा. एनी चिल्लाने लगी “और तेज और तेज़ फास्टर यू बास्टर्ड फास्टर” उसके इस जोश से मैं भी और तेज़ी से उस पर पिला पड़ा, फलस्वरूप मैं और एनी एक साथ ही झड गए.

मैं थक कर एनी के ऊपर ही लेट गया, हम दोनों की सांसें इंजन की तरह तेज़ चल रही थी. एनी ने कहा अब आज रात तू घर नहीं जाएगा और कल हम दोनों ऑफिस भी नहीं जाएँगे बस मस्ती से चुदाई मचाएँगे. ये बोल कर वो मेरे लंड की तरफ गई और उस सोए हुए वीर को चूम चूम कर जगाने लगी ताकि उसे उसका बाकी इनाम दिया जाए. इस घटना के बाद मैंने एनी को लम्बे समय तक चोदा, अब उसने अपने बी ऍफ़ से शादी कर ली है और मलेशिया में सेटल हो गई है लेकिन जब भी इन्डिया आती है तो हम दोनों समय निकाल कर अपनी चुदास ज़रूर मिटाते हैं.

Aug 21, 2016Desi Story

Content retrieved from: .

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *