HomeSex Story

भांजी की चुदाई – Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya

भांजी की चुदाई – Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya
Like Tweet Pin it Share Share Email
भांजी की चुदाई – Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya

मेरा नाम अरशद है, महाराष्ट्र का रहने वाला हूँ। मैं 30 साल का नौ जवान हूँ, मेरी शादी हो चुकी है और मेरा एक बेटा भी है।
मेरी यह कहानी हक़ीकत है।
मेरी ज़िंदगी बड़ी मज़े से कट रही थी किस्मत से मैंने बड़ी ही सेक्सी बीवी पाई है पर एक दिन अचानक मेरे बड़े चाचाजान की बेटी हमारे घर आई और साथ में अपनी बेटी को भी ले आई जिसका नाम काजल है।
मेरी आपा ने कहा कि इसे 2 साल के लिये अपने साथ अपने घर रखो तो यह कॉलेज में भी पढ़ लेगी और कुछ घर का काम भी सीख जायेगी तो मेरी अम्मी ने उसको हमारे घर रख लिया और वो रोज़ कॉलेज जाने लगी।
वैसे तो मैंने कभी उसको बुरी नज़र से नहीं देखा था पर उसका फिगर मेरी पसन्द जैसा था, मीडियम लम्बाई, गोरा रंग, छोटे छोटे उरोज 32 इन्च के !
वो हर रोज़ सुबह घर का काम करके कॉलेज चली जाती और आकर फिर मोबाइल पर मैसेज करती रहती।
मुझे उस पर शक हुआ और मैंने उस पर नज़र रखना शुरू किया। वो उसी कॉलेज में पढ़ती थी जहाँ से मैंने डिग्री की थी।
एक दिन उसका पीछा करते करते में कॉलेज के पीछे वाले टायलेट तक चला गया जहा आमतौर पर कोई जाता नहीं था।
मैंने देखा काजल वहाँ एक लड़के के साथ लिपटा-चिपटी, चूमा चाटी कर रही थी।
मैं तुरन्त वहाँ से निकल गया और घर आ गया, सोचा कि उसको खूब डांटूँगा पर मुझे लगा कि अगर यह बात घर में सबको पता चली तो अम्मी काजल को वापस उसके घर भेज देंगी और उसकी पढ़ाई अधूरी रह जायेगी, इसलिये मैं खामोश रहा।
उसके लिये कोई अलग से कमरा नहीं था इसलिये वो लिविंग रूम में सोती थी और उस कमरे का एक दरवाज़ा मेरे बेडरूम में खुलता था।
जब से वो आई थी, मैं अपनी बीवी के साथ खुल कर सेक्स भी नहीं कर सकता था, अगर थोड़ी सी आवाज़ बढ़ जाये तो मेरी बीवी कहती कि बाजू के कमरे में काजल है, ज़रा आराम से !
पता नहीं क्या हुआ, अचानक एक रात में नींद से जगा जैसे आधा नींद में हूँ, काजल के कमरे में चला गया और उसे देखने लगा, उसके छोटे से स्तन मुझे उकसा रहे थे, मुझसे रहा नहीं गया और मैं धीरे धीरे उसके चूचे दबाने लगा, मुझे कोई होश नहीं था कि मैं क्या कर रहा हूँ।
अचानक वो जाग गई और कहने लगी- क्या कर रहे हो मामा?
मैं थोड़ा सा परेशान हो गया और पीछे सरक गया।
वो उठी और फिर मुझसे पूछा- क्या बात है?
मैंने उसका हाथ पकड़ा और कहा- चल मेरे साथ !
वो भी उठकर चलने लगी। बाहर वाले बाथरूम में ले जाकर मैंने उसे चूमना चाहा तब वो झटका देकर मुझसे दूर हो गई और कहने लगी- क्या कर रहे हो मामा? मुझे ये सब पसंद नहीं।
मैं सकते में आ गया, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था, वो चली गई, फिर मैं भी अपने बिस्तर पर जाकर सो गया।
सुबह जब मैं उठा तो मुझे अजीब सी शर्मिंदगी थी, मैं उससे नज़र नहीं मिला सकता था पर उसने कुछ ऐसा बर्ताव किया जैसे कुछ हुआ ही नहीं।
बस फिर क्या था, मेरी हिम्मत बढ़ गई, जिसे कल तक मैं सिर्फ़ अपनी भांजी समझता था, अब मैं उसके साथ सेक्स करने के सपने देख रहा था।
आते जाते में उसके शरीर को छूने की कोशिश करता, कभी उसके चूतड़ों को हाथ लगाता, कभी कोहनियों से उसके चूचे दबाता पर उसकी तरफ से कोई प्रत्युत्तर ही नहीं था।
मैं समझ गया कि वैसे भी उसकी प्यास तो उसका बॉयफ्रेंड बुझा रहा है और वो मुझसे उम्र में 11 साल छोटी थी, फिर भला वो मुझमें क्यों दिलचस्पी लेती, पर मैंने तो ठान लिया था कि किसी भी हाल में काजल को चोदना है।
एक दिन मेरे घर के सभी लोग शादी के लिये गाँव गये, सिर्फ़ मैं और काजल नहीं गई क्योंकि मुझे ऑफ़िस से छुट्टी नहीं मिली थी और दूसरे दिन काजल की परीक्षा थी तो उसको पढ़ाई करनी थी।
सबके जाते ही मेरे मन में बैठा शैतान जाग गया और मैंने एक योजना बनाया। मेरे बेडरूम वाले कंप्यूटर में वो अक्सर वीडियो सोंग सुना-देखा करती थी, मैंने हिडन फाइल्स में से कुछ ब्लू फिल्म निकाली और उनके नाम बदल करके ‘कुछ कुछ होता है’ और ‘मन’ जैसी फ़िल्मों के नाम दे दिये और मैं ऑफ़िस चला गया, जाते वक़्त मैंने अपना हेंडी कैम चालू कर दिया, यह देखने के लिये कि मेरे नहीं होने पर वो क्या करती है?
दिनभर तो मेरा मन ऑफ़िस में नहीं लगा तो मैं शाम को जल्दी जल्दी घर पहुँचा।
वो रसोई में खाना बना रही थी, मैंने कंप्यूटर चालू किया और सबसे पहले हिस्ट्री चेक की, उसमें वही सब पॉर्न वीडियो थे।
बस मुझे यकीन हो गया कि वो क्या कर रही थी।
फिर मैंने हैंडी कैम चालू किया पर उसमें सिर्फ़ 2 घंटे की शूटिंग होती है और उतनी देर तो उसने कंप्यूटर चालू भी नहीं किया था।
मेरा आधा प्लान फेल हो गया था पर आज तो कुछ ना कुछ करना था।
तो हमने खाना खाया और बातें करने लगे। बातों बातों में मैंने उसको कहा- शफ़ी, ज़रा एमपी थ्री सोंग तो लगा पी.सी पर !
वो उठ कर कंप्यूटर के सामने बैठ गई।
मैं उसके पीछे जाकर खड़ा हो गया और उसकी गर्दन की मालिश करने लगा, वो गाने सलेक्ट करने में लगी थी।
मैं मालिश करते करते हाथ पीठ पर ले गया और उसको पूछा- ठीक है ना या और ताक़त लगा कर करूँ?
वो बोली- नहीं मामा, इतना ही काफ़ी है।
धीरे धीरे मैं हाथ पीठ के बीच में लाया और और पीठ से बूब्स तक मालिश करने लगा तो वो थोड़ा सा बदन चुराने की कोशिश करने लगी पर सब बेकार था क्योंकि आज मुझे किसी का डर नहीं था, ना मेरी बीवी घर में थी, ना अम्मी, ना और कोई में उसके बूब्स ज़ोर ज़ोर से रगड़ने लगा और उसको चूमने के लिये झुका तो उसने मुँह फेर लिया।
मुझे गुस्सा आया, मैंने अपने दोनों हाथो में उसको उठाया और बेड पर डाल दिया और उसको गुस्से में बोला- साली रंडी, मुझे किस नहीं देती और वहाँ कॉलेज के टायलेट में किसी अन्जान लड़के से चुदती है? क्या मैं इतना बुरा हूँ साली छीनाल?
मैंने ज़ोर ज़बरदस्ती उसके लबों पर अपने लब रख दिये और फिर क्या था, वो भी मुझे नीचे से रेस्पोन्स देने लगी।
अगले एक मिनट में मैंने अपनी कई महीनों की इच्छा पूरी कर ली, एक झटके में उसके कपड़े उतार दिये, अब वो मेरे सामने पूरी नंगी थी और उसके छोटे उभारों से मैं खेल रहा था,
उसका वजन ज्यादा नहीं था तो मैंने उसे उठा उठा के चोदा। वो मेरे शरीर से ऐसे लिपट गई जैसे सांप किसी पेड़ पर लिपटता है।
आज इस बात को कुछ महीने हो गये है पर अभी तक कोई दूसरा मौका नहीं मिला चुदाई का !
बस आते जाते में काजल को चूम लेता हूँ और यहाँ वहाँ हाथ लगा लेता हूँ पर इतनी आसानी से नहीं छोड़ूँगा मैं उसको…
अगले हफ्ते मेरी बीवी 15 दिन के लिये मायके जाने वाली है, फिर देखो चुदाई गपागप !

READ  अपना वीर्य आंटी को चटाया हेलो दोस्तों.. मेरा नाम नितिन है और मेरी उम्र 26 साल है. मैंने अपने जीवन के बहुत से सेक्स अनुभव यहाँ आपके साथ बहुत से शेयर किये है और आप लोगो ने उनको काफी सराहा और पसंद किया. वो मेरे लिए बहुत अच्छी बात है. अब मैं आज आप सभी के सामने अपना एक नया सेक्स अनुभव लिख रहा हूँ और शायद मेरी पिछली कहानी भी आप सभी को याद होगी कि कैसे मैंने अपनी आंटी को बजाया और अब मैं उसके आगे की कहानी शुरु करता हूँ.. दोस्तों आंटी के साथ सेक्स करने के बाद आंटी मेरे लंड की दीवानी हो गयी और फिर जब भी अंकल बाहर जाते तो हम बहुत दिनों तक कई कई घंटो तक सेक्स करते फिर एक दिन अंकल को किसी काम से कुछ दिनों के लिए बाहर जाना था और मुझे तो मज़ा आ गया कि मैं अब मज़े से आंटी की चुदाई करूंगा.. तो अंकल के जाते ही मैं आंटी के घर पर पहुंच गया. आंटी किचन में अपना काम कर रही थी और मैं उनके पीछे खड़ा हो गया और मैंने अपने लंड को आंटी की गांड से छू दिया. तभी आंटी ने कहा कि इतनी जल्दी क्या हैं? अभी तो हमारे पास पूरा एक हफ्ता पड़ा हैं.. तुम जी जैसे चाहो वैसे जी भरकर चुदाई करना. तो मैंने कहा कि मुझे अभी इसी वक़्त चुदाई करनी हैं.. आंटी बोली कि ठीक हैं और मैंने आंटी की साड़ी को खोल दिया और उनके बूब्स चूसने लगा. तो आंटी कहने लगी कि मुझे कब से इस दिन का बड़ी बेसब्री से इंतजार था कि तुम जी भरकर मुझे चोदो और वैसे भी तुम्हारे अंकल के लंड में अब वो दम नहीं हैं.. जो तुम्हारे लंड में है. फिर मैंने आंटी की चूत चाटनी शुरू कर दी और आंटी सिसकियाँ लेने लगी हाए आह्ह्ह ऊँह्ह्ह और जोर से चूसो. फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और आंटी की चूत पर रखकर जोर जोर से धक्के मारने लगा. आंटी वाह मेरे राजा मार आज फाड़ दे मेरी चूत को और जोर से मार कसकर धक्के मार बना दे मुझे अपनी रंडी.. मैं भी कहे जा रहा था कि ले रंडी ले मेरा लंड ले.. मैं आज तेरी चूत के दो टुकड़े कर दूंगा और मैं पूरे जोश मैं आकर बहुत जोर जोर से धक्के देकर उसकी चूत मार रहा था और इस चुदाई के चक्कर मैं हमने दरवाजा बंद नहीं किया था और हम पूरे जोश के साथ सेक्स मैं लगे हुए थे. तभी आंटी की बड़ी बहन जिसे मैं बड़ी माँ कहता था वो आ गयी.. लेकिन हम लोगों को पता नहीं था और हम तो सेक्स में व्यस्त होकर मज़े कर रहे थे और हमे उस समय इस बात का पता नहीं चला और सेक्स के बाद हमने कपड़े पहने और आंटी ने कहा कि बच्चे स्कूल से आते होगें.. जान तुम आज रात को आना हम फिर से मजा करेंगे. तो मैं उस समय अपने घर पर चला गया और जब रात को आंटी के घर गया तो देखा कि आंटी कुछ परेशान लग रही थी.. तो मैंने पूछा कि आंटी क्या बात है? और आप इतनी टेंशन में क्यों हो? तब उन्होंने मुझे बताया कि जब हम दिन में सेक्स कर रहे थे.. तब हमे मेरी दीदी ने देख लिया. फिर मेरे तो होश ही उड़ गये और मैं कुछ देर बाद बोला कि आप यह क्या बोल रही हो? लेकिन हमे बड़ी मम्मी ने कब देख लिया? तो उन्होंने कहा कि हाँ मैं एकदम सच बोल रही हूँ.. हमे उन्होंने सेक्स करते हुए देख लिया है. फिर मैंने बोला कि अब क्या होगा? तो वो बोली कि उन्होंने कहा हैं कि वो रात को यहाँ पर आएगी.. लेकिन हम बहुत डर गये थे कि अब सबको पता चल जाएगा. फिर आंटी ने अपने दोनों बच्चो को खाना खिलाकर जल्दी ही सुला दिया और हम बैठे बैठे उनका इंतजार करने लगे.. बड़ी माँ रात के 10 बजे आई और उन्होंने कहा कि मैं तुम दोनों के बारे मैं तुम्हारे अंकल को बताउंगी. तो मैंने कहा कि जाओ बताओ मैं भी बता दूँगा कि तुम्हारा पति कुछ नहीं कर पता.. क्योंकि उसका लंड खराब हो गया हैं और तुम अपनी चूत में मोमबत्ती घुसाती हो. तो उन्होंने कहा कि तुम्हे यह सब किसने बताया? फिर मैंने कहा कि वो तो छोड़ो.. तभी वो रोने लगी और कहा कि मुझे सिर्फ़ यह कहना था कि बेटा तुम मेरी भी प्यास बुझा दो. तो मैंने कहा कि आपको ऐसा पहले कहना था और हम तो बिना बात के डर ही गये थे. तो आंटी ने कहा कि आज तो बहुत मज़ा आएगा और मैंने बड़ी माँ को गले लगा लिया. मेरी बड़ी माँ के बूब्स 40 के होंगे और गांड 34 की.. मैंने उनकी साड़ी खोल दी और कहा कि चल अपने बूब्स दिखा रंडी. तो उसने ब्रा को खोल दिया और मैं तो दंग ही रह गया कि उसके बूब्स इतने बड़े थे और मैंने बूब्स चूसना शुरू कर दिया. एक बूब्स मैं चूस रहा था और एक आंटी.. फिर हमने थोड़ी देर बाद बड़ी माँ को लेटा दिया और मैं उनकी चूत पर चड़ गया और उनकी चूत को चाटने, चूसने लगा और आंटी उनके बूब्स चूस रही थी. तो बड़ी माँ सिसिकियाँ भर रही थी और कह रही थी कि वाह मज़ा आ गया यार प्लीज़ और चूसो.. मैं चूसता रहा और थोड़ी देर बाद उनकी चूत से पानी निकल गया और वो कांपने लगी और कहने लगी कि मेरी शादी के इतने साल बाद आज पहली बार मेरी चूत से पानी निकला हैं. तो मैंने कहा कि मैं अब आपकी चूत फाड़ दूंगा.. तभी वो बोली कि फाड़ दे बेटा मेरी चूत और दिखा अपने लंड का जोश. फिर मैंने अपना लंड पेंट से बाहर निकाला.. तभी वो मेरा बड़ा लंड देखकर डर गयी और बोली कि यह 7 इंच का लंड अब तक कहाँ पर छुपाकर रखा था? और मुझे पहले पता होता तो मैं हमेशा तुझसे ही चुदवाती. मैंने बिना देर किए अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया.. उनके मुहं से आह्ह्ह निकल गयी और वो जोर से चिल्लाने लगी.. ऊई हहाहह माँ मार दिया मुझे.. चोद मुझे और जोर से चोद दे फाड़ दे माँ उईईई मैं गई.. तो मैंने कहा कि अब मेरा वीर्य निकलने वाला है.. कहाँ पर डालूं? तो उन्होंने कहा कि डाल दे अंदर ही और मैंने उनकी चूत के अंदर ही अपना वीर्य डाल दिया.. आंटी देख रही थी और उसने अपनी बहन से कहा कि आपका काम तो हो गया दीदी बताओ अब मेरा क्या होगा? तब बड़ी माँ ने कहा कि आज मैं एक सेक्स पावर की गोली लाई हूँ हम इसको खिला देते हैं और यह हम दोनों को आज रात भर चोदेगा. तो मैंने कहा कि नहीं मैं गोली नहीं खाऊंगा.. आंटी ने कहा कि बेटा खाले नहीं तो तेरी बड़ी माँ कूद कूदकर शोर मचाएगी क्योंकि उसे बड़े दिनों के बाद लंड जो मिला हैं. फिर मैंने वो गोली खा ली और थोड़ी देर बाद जब उस गोली का असर हुआ तो मेरा लंड ऐसा हो गया था जैसे मानो की लोहे का सरिया हो.. मेरा लंड तनकर अकड़ रहा था और मुझे बहुत दर्द हो रहा था.. मेरी हालत एसी थी कि मुझे जो कोई भी मिल जाए मैं उसे ही चोद दूँ. मैंने आंटी को कहा कि जल्दी से कुतिया बन जाओ और मैं आंटी के बाल पकड़कर उनके ऊपर चड़ गया और चुदाई शुरू की.. गोली की वजह से मुझे वीर्य गिरने का भी डर नहीं था इसलिए मैं पागलों की तरह कसकर धक्के मार रहा था. तो आंटी बोली कि क्या आज मेरी चूत फाड़ ही दोगे? मैंने कहा कि साली कुतिया चुपकर अपने पति से सन्तुष्टि नहीं मिलती तो मुझसे चुदवाती हैं साली कुतिया ले मेरा लंड. तो आंटी सिसकियाँ लेने लगी.. उई माँ उऊफ़ मैं मर गयी उईउऊफ़ मज़ा आ रहा हैं यार.. मार कसकर मार ईईईऊफ़.. तभी बड़ी माँ बोली कि क्या उसे ही चोदेगा या मुझे भी चोदेगा कुत्ते? तो मैंने कहा कि आजा रंडी तू भी और मैंने कहा कि चल घोड़ी बन और उसकी गांड में लंड घुसा दिया.. वो रोने लगी हाए बाहर निकाल आज तू क्या मुझसे बदला लेगा? तो मैंने कहा कि चुप कुतिया ले मेरा लंड ले बहुत गोली खिलाने का शौक था ना तुझे.. ले अब और गांड मरवा. मैंने उसकी गांड मार मारकर उसकी गांड का छेद बड़ा कर दिया. वो उई उऊफ़ गया पूरा लंड मेरी गांड में गया.. मैं मर जाऊंगी.. मैं आज मर गई.. उउफ वो यही कह रही थी और फिर आंटी ने कहा कि मेरी भी गांड मार बेटा. तो मैंने अपना लंड आंटी की गांड मैं घुसा दिया.. वाह मुझे मज़ा आ गया यार मैं बहुत धक्के मारता गया और मैंने उस रात बहुत देर तक उन दोनों की चुदाई की और उन दोनों की हालत खराब हो गई.. लेकिन गोली की वजह से मेरा वीर्य निकल ही नहीं रहा था.. तभी मुझे एक आईडिया आया और मैंने कहा कि आज मैं तुम दोनों को मार ही डालूँगा.. मैंने आंटी से कहा कि अपना मुहं खोलो. तो उन्होंने मुहं खोल दिया और मैंने उनके मुहं में अपना लंड घुसा दिया और आंटी के मुहं को चोदने लगा. आंटी को बहुत मज़ा आ रहा था.. लेकिन मैं इतनी जोर से धक्के मार रहा था कि आंटी की सांसे तक रुक रही थी और उनकी आखों से आंसू आने लगे थे. तो आंटी बोली कि मुझे नये तरीके से चोद.. मैंने कहा कि ठीक हैं और मैंने उनको हवा में उठा दिया और चोदने लगा.. आंटी की हालत खराब हो रही थी. तो आंटी ने कहा कि तो अब मुझे छोड़ दे और दीदी को चोद.. मैंने बड़ी माँ को पकड़ा उसकी गांड को जोर से काट लिया और फिर उसकी गांड बहुत जोर से मारने लगा. मैंने उस रात उन दोनों को 4 बार चोदा दिया अब मुझे लगने लगा कि मेरा वीर्य निकलने वाला है तो मैंने कहा कि जो भी मेरा वीर्य गिराएगा मैं उसे कल फिर गोली ख़ाकर चोदूंगा. तो तुम दोनों सोच लो कि जो कोई भी जीतेगा वो कल कितने मजे करेगा. फिर मैंने पहले बड़ी माँ को बहुत चोदा.. लेकिन मेरा वीर्य नहीं गिरा और जब आंटी को चोदा तो भी वीर्य नहीं गिर रहा था. तो आंटी ने अपना दिमाग़ लगाया और कहा कि जान आज बहुत मज़ा आ रहा है और वो मेरे पास आती जा रही थी और बोलने लगी कि अपना लंड मेरे मुहं में डालो.. अपना वीर्य मेरे मुहं में डालो.. यह सुनकर मेरा वीर्य गिरने लगा था.. मैंने अपना लंड आंटी के मुहं में घुसा दिया और वो सारा वीर्य पी गयी और हम तीनो ऐसे ही नंगे सो गये .. Aug 22, 2016Desi Story

Desi Story

Related posts:

गर्लफ्रेंड की नंगी चूत चाटी, अब चुदाई का इन्तजार
कुंवारी लड़की की सील तोड़ी – चुत की चुदाई
ट्रेन में मम्मी की चुदाई
भाभी को उसके बेडरूम में चोदा
काली साड़ी में मिली मस्त भाभी
सहेली के लड़के ने चोदा
बीवी को चुदाई का नशा
Big dick for my girlfriend
रितिका मॅम आप बहुत
बेटा जल्दी से लंड डाल दे चूत में
पति के लंड से ज्यादा मजा देता है जीजा
पति नें ही कहा चुदवा ले किसी और से
भाबी की बुर का पानी पि कर प्यास मिटाई
मा और बहन की चुदाई
पांच दिनों तक पड़ोस की हॉट खूबसूरत
रोक न सका फिल्म हाल में चुद गयी
साले की बीवी की अच्छी चुदाई की
दुनिया जिसे नाजायेज कहती हें
चुदाई की क्लास ली बहन की
मेरा नौकर श्यामू - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya
PHUL SAJYA | Sex Story Lovers
College Teacher Ki Chudai Mast Kiya
नेहा ने गांड मरवा ली कालबॉय से
गांड चुदाई की कहानी आम का रस लगा कर
कबाड़ी के खेल में गांड मरवाई
क्रीम लगा के बहन की चूत चोदी
मेरी बीवी चुद गई फोटो स्टूडियो में
मेरी लड़को से चुदवाने की आदत रोज नया कड़क लंड चाइये होता हे :- जरीन
जीजा जी ने मेरे रसीले दूध पिये और मुझे चोदकर औरत बनाया
Jacqueline Fernandez Hot Pole Dancing Bikini Outfit

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *