मामी ने पहले लेस्बो किया फिर लंड दिलाया

मेरी सगी मामी रश्मि मुझे अपनी छोटी बहन की तरह प्यार करती है. उनकी शादी के समय मैं आठवी क्लास में थी. हमारा उनके यहाँ आना – जाना बना रहता था, क्योंकि मामी भी उसी टाउन में रहती है. ये बार पीछे महीने की है. जब मेरी मम्मी ने मुझे बताया, गुडिया, आज तुम्हे मामी के घर जाना है २ – ३ दिनों के लिए. राजू, मेरे मामा का नाम है. बिज़नस के लिए बाहर जा रहे है. सो तुम वहीं रहना. मैं खुश हो गयी और एक दो किताब बेग में डाल कर स्कूटी से मामू के घर पहुच गयी. उसी दिन वो ट्रिप पर चले गया. डिनर के बाद, रश्मि दी अपने रूम में चली गयी और मुझे भी साथ ले गयी. उन्होंने मुझे अपने रूम में ही सुलाया. जल्दबाजी में, मैं अपनी नाईट ड्रेस ही लाना भूल गयी थी. सो उनकी पेटीकोट और इनर पहन कर मैं बेड पर बैठ गयी और टीवी पर सीरियल देखने लगी. रश्मि दी नहा कर लाल कलर की नाइटी में बाहर आई, उनकी उभरी चुचिया बहुत ही लुभावनी थी. वो मेरे बगल में आ कर लेट गयी.

 

रश्मि दी २२ की थी. उनकी हाइट मेरी जैसी ही थी, जब कि मैं केवल १५ साल की थी. मेरे बूब्स उसके बूब से काफी छोटे थे. मेरे हिसाब से वो मुझ से अधिक सुंदर थी और तंदुरुस्त भी. मामू – मामी एक दूसरे को जान से भी ज्यादा प्यार करते थे. ये मैं जानती थी. मेरे सामने ही वो मामी को चूम लेते थे. मामी हमेशा फ्रेश लगती थी और स्मार्ट ड्रेस पहनती थी. उनकी शादी को हुए २ साल हो चुके थे और अभी तक वो माँ नहीं बनी थी. मामा शायद फॅमिली प्लानिंग करना चाहते थे. मामी भी २५ के पहले बच्चा नहीं चाहती थी. बीते साल वो दोनों मरेज डे पर गोवा गए थे. सो मैं एल्बम देख रही थी. रश्मि दी बिकनी और दुसरे कामुक ड्रेस में बड़ी आकर्षक लग रही थी. मामू को पिक्स शूट करने का बहुत शौक था, तो वो मामी की अधनंगी फोटो को सीडी में लगा कर रखते थे. मामू ने उन्हें नुमायशी बना दिया था. मामी ने बताया – तुम्हारे मामू मुझे तंग ड्रेस में देख कर उतेजित होने लगते है. जब भी मौका मिलता है, तो वो मेरी फोटो खीचने लगते है. फिर वो बोली – अरे गुडिया, तुझे नींद नहीं आ रही है क्या? सीडी को बंद कर दे और सो जा..

दीदी, मैं अभी सीडी देख रही हु. आओ सो जाओ. गुडिया, मुझे नींद नहीं आएगी. जब तक सो नहीं सो जाती. मुझे से चिपक कर. मैंने बोला – वाह दी, आपने मुझे क्या मामू समझ रखा है? तुम क्या रोजाना इसी तरह से सोती हो? वो मुझ से लिपटी हुई बोली – हाँ. ये कह कर मामी ने अपनी नाइटी खोल कर अधनंगी होकर मुझे अपने जिस्म से सटा लिया. फिर वो मुझे चूमने लगी. मैंने महसूस किया, कि मेरे छोटे – छोटे टिट्स खड़े हो चुके थे और कड़क भी. मेरी छाती में उनकी बड़ी – बड़ी चुचिया चुभने लगी थी. उन्होंने मेरे पेटीकोट को ऊपर सरका लिया और मेरी जांघो पर अपनी मांसल जांघे फैला ली. मुझे झुरझुरी सी चड़ने लगी. मैं पहले कभी लेस्बियन नहीं किया था. मैंने लेकिन लेस्बियन विडियो देखी हुई थी पहले. मैं अब उतेजित होने लगी थी और मैंने अपना मुह नीचे झुका लिया. उन्होंने अपने हाथो को नीचे डाल दिया और मेरी चूत को टटोलने लगी. मुझे समझ ही नहीं आ रहा था, कि मामी क्या करना चाह रही थी मेरे साथ. अपनी सहेलियों से लेस्बो की कहानी मैं सुनी थी, लेकिन कभी एक्सपीरियंस नहीं किया था. मैं सोचने लगी – कि मामी जरुर लेस्बियन है. थोड़ी देर में सब कुछ खुलासा हो गया.

READ  मौसी की इच्छा से उनकी आग बुझाई

मामी ने मुझे नंगा कर दिया और फिर वो मेरे ऊपर आ गयी. उन्होंने अपने उरोजो को मेरे जिस्म से रगड़ कर मुझे किस करना शुरू कर दिया. वो अपनी चुचिया मुह के ऊपर लेकर चूसने लगी थी. उन्होंने मुझे भी उनकी चुचियो को चूसने को कहा. मैंने अपनी आँखों को बंद कर लिया और उनके खड़े निप्पल को अपने मुह में भर कर अपनी जीभ से चाटने लगी. हाँ, इसी तरह से चूस मेरी बेबी… मामू तो चूस – चूस कर मुझे बेहाल कर देते है. मैं ने चुटकी ली, और क्या – क्या करते है वो? बताओ ना दी.. वो बोली – एक दिन सब कुछ बताउंगी. अभी तो तुझे मेरे साथ ३ दिन रहना है. कल हम दोनों मार्किट जायेंगे और तुम्हारे लिए ड्रेस खरीदेंगे. तुम्हे अब ब्रा पहननी चाहिए अपने ठीक साइज़ वाली. ये कहते हुए, मामी मुझे और मेरे नंगे जिस्म को चूमने लगी. अपनी जीभ को जब उन्होंने मेरी चूत के छेद पर रखा, तो मैं एकदम से तिलमिला उठी और मैंने अपने घुटनों को मोड़ कर ऊपर उठा लिया.

वो मुझे ऐसे देख कर बोली, अन्दर नहीं डालूंगी बेबी.. सिर्फ ऐसे ही घुमयुंगी. जब मैं तुम्हारी ऐज की थी, तो अपनी उंगलियों से अपने चूत के दाने को दबाती थी. फिर बोलने लगी – बेबी, तुम्हारे मामू जब मेरी चुचियो को चूसते हुए बोर होने लगते है. तो मैं उनका लंड पकड़ लेती हु और उनके लंड को अपने मुह में भर कर उनके लंड को मुह में चूस कर लम्बा करती हु. तब वो कंडोम लगा कर मेरी चुदाई करते है. ओह मामी… मैं मुन्ना (मेरा छोटा भाई) का नन्नू (छोटा लौड़ा) देखती हु. दबाती भी हु. लेकिन चूसती नहीं हु. और बताओ ना मामी.. मेरी चूत अब गीली होने लगी है. टी जवान बन जाएगी, अपनी चूत में फिन्गेरिंग करके.. मैं तुझे वाइब्रेटर दूंगी. उसी को लगा कर मस्ती करना. तेरी बुर फैल जायेगी और हो सकता है, कि तेरी झिल्ली भी फट जाए. देख तुम्हे मैं कैसे जवान बनाती हु. फिर वो ये सब बोलते हुए, मेरी कमसिन जन्घो के बीच में अपना घुटना लेकर मेरी चूत को दबाने लगी. वो मेरा मुह, गला, कान और ललाट चूस रही थी और मेरे चूचो को अपनी चुचियो से प्रेस कर रही थी.

वो बहुत ही कामुक हो गयी थी और उनके नीचे मैं छटपटा रही थी. मैंने अनुभव किया, कि मामी की चूत मेरी क्लिंट पर है और वो चुतड उठा कर मेरी ठुकाई कर रही है. मेरे मुह से उम्म्म्म य्म्म्मम्म हम्म्म्म अहहाह अहहाह मामामामा मामी चोदो मुझे… प्लीज… बहुत गरम हो गयी मई… चोदो मुझे… बोलने लगी थी. मेरी चूत के छेद से अब मेरा पानी निकलने लगा था और मामी ने उसको पीना शुरू कर दिया. मेरी आँखे बंद हो गयी थी. अब वो मेरी चूची को सहलाते हुए बोली – बेबी, तुम्हारा मामू बहुत कामुक है. महीने में मेरी १५ – २० बार चुदाई करते है. माहवारी (पीरियड) के समय जब थकी रहती हु, तो वो मेरी कमर – जांघे दबाते है और चुचिय चूसते हुए सो जाते है. इसी कारण से मेरी भी आदत हो गयी है सोने से पहले चुस्वाने की. मामी.. बताओ ना.. डिटेल में… मुझे.. मैने मामी को बोला. सहेलिया गलत बताती है, कि पहली बार में बहुत दर्द होता है. वो मुस्कुराते हुए बोली – भोली मत बन. जब लंड तुम्हारी चूत को पहली बार चोदेगा, तो तुम्हारी झिल्ली फट जायेगी और तू जवान हो जायेगी. शादी के बाद तुम्हारा हब्बी तुम्हे बार – बार चोदेगा.

READ  Girlfriend me mujhe cuckold banaya – Indian sex story

मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ. मामू ने उस रात मेरी सील थोड़ी थी और फिर दूसरी रात को कई बार चुदाई की. सुबह उठी, तो देखा कि पलंग के नीचे ३ – ४ कंडोम पड़े थे और उनमे पानी सा भरा हुआ था और वो पिलपिला रहे थे. जल्दी से मैंने सामान बेग में रख लिया, ताकि सासू माँ ना देख ले. मेरी अब आँख लग गयी. सुबह उठी, तो देखा कि मामी ने मेरे नंगे बदन को चादर से ढक दिया था. मैं जल्दी से बाथरूम में जाकर फ्रेश हुई और ड्रेस पहनकर किचन में जाकर उन से लिपट गयी. और बोली – मामी, मुझे वाइब्रेटर दिखाओ ना. उन्होंने मुझे कहा – हट, चल पहले नाश्ता कर ले. आज हम लंच बाहर करेंगे. फिर मैं तुम्हारे साथ पीवीआर में पिकू देखूंगी. फिर तुम्हारे कपड़े खरीदेंगे. मैं ख़ुशी – ख़ुशी तैयार होकर मामी को स्कूटी पर बैठा कर मार्किट की तरफ निकल पड़ी. मामी ने टाइट जीन्स पहनी हुई थी और मैचिंग अध् खुली हुई कुर्ती. काले चश्मे लगाये, वो सुंदर दिख रही थी. उनके बूब्स मेरी पीठ से टकरा रहे थे. हाई हिल वाली जुती से उनकी लम्बाई अच्छी – खासी बड गयी थी. जब मैं दी कह कर पुकारती, तो लोग देखने लगते.. क्योंकि मामी दी के जैसे लगती ही नहीं थी. वो समझते थे, की मैं उनकी गर्लफ्रेंड हु.

तंग कुर्ती में मामी बहुत सेक्सी लग रही थी. उनकी टाइट कुर्ती की वजह से उनके नीपल के उभार साफ़ नज़र आ रहे थे और उनकी टाइट जीन्स की वजह से उनकी जांघो के उभारो का भी किसी को गदराये होने का अंदाज़ हो जा रहा था. मल मार्किट से मामी ने मेरे लिए एक जोड़ी ब्रा और पेंटी के अलावा घुटने भर लम्बी नाइटी खरीदी. मेरे कहने पर अपने लिए एक काले रंग की कैपरी ले ली. लंच पैक करवा कर हम दोनों घर पर आ गए. उस रात मामी ने कैपरी और ब्रा और मैंने नाइटी पहन रखी थी. फिर हम एक साथ सोने की तैयारी करने लगे. मामी ने बताया, कि रात में मामू लौटने वाले है और उनकी ट्रेन रात को १२ बजे के बाद स्टेशन पर पहुचेगी. सो तुम मेरे पास ही सो जाओ. मैंने उनको बता दिया है और वो डुप्लीकेट की से दरवाजा खोल कर सोफे पर सो जायेगे. मैंने कहा – अरे नहीं मामी. मैं स्टडी रूम में जा रही हु. मैं वहीँ पर सो जाउंगी. वो बोली – नहीं गुडिया, मैं तुम्हे यहीं सुलौंगी. चुपचाप आ जा मेरे बगल में. वो मुझे अपने जिस्म से सटा कर मेरी ब्रा के ऊपर हाथ फेरने लगी. मेरी पेंटी के पीछे उनकी जांघे थी और घुटने मेरी जाघो के बीच में थे. पता नहीं, कब मुझे नींद आ गयी और मैं सपने की दुनिया में खो गयी, कि मामा मामी की चुदाई कर रहे थे.

मेरे कानो के पास आवाज़ आई – अरे ये क्या कर रहे हो, बेबी बगल में है. जाग जाएगी. रश्मि, तुम दोनों अध् नंगे लिपटे हुए थे और तुम दोनों को ऐसे देख कर मेरा लौड़ा खड़ा हो गया है. तुम जानती हो, बिना चुदाई के मुझे नींद नहीं आती है. अभी रात के ३ बजे है. एक बार चोदने दो.. फिर मैं चले जाऊंगा. तुम मानोगे नहीं.. मामी बोली. चलो तुम, मैं आती हु. फिर दोनों एक साथ उठ कर सोफे वाले रूम में चले गये. मेरी नींद तो हवा हो गयी थी. मैं उसी हालत में अध् नंगी उठ कर दरवाजे के पास आई. बाहर से किल्ली लगी थी. सो कान लगा कर सुना, तो दोनों बातें कर रहे थे. मैं असली चुदाई का खेल देखना चाहती थी. तभी मुझे ख्याल आया, कि बाथरूम का दरवाजा भी दुसरे रूम में खुलता है. ट्राई करने के लिए मैं बाथरूम में गयी. दरवाजा बंद था, पर किल्ली नहीं लगी थी. धीरे से खोली और बाथरूम में अँधेरा था. इस कारण मुझे किसी ने नहीं देखा. दोनों पूरी तरह से नंगे थे. मामी डाइनिंग टेबल पर पीठ करके लेटी थी और उनके पैर नीचे लटके हुए थे.

READ  माँ बेटे की चुदाई की सच्ची कहानी

मामू जन्घो को फैला कर उनकी बुर को चूस रहे थे. उनका लौड़ा पहली बार देख रही थी. कम से कम ५ इंच लम्बा होगा. चारो तरफ बालो से घिरा था. मामी अपनी चुचिया मल रही थी.. उम्म्म्म उम्म्म्म उम्म्म्म उम्म्म्म पच पच की आवाज़े आ रही थी. कुछ देर बाद, मामू ने मामी को सहारा देकर सोफे पर लिटा दिया और उनकी चूत में ऊँगली लगायी. फिर उन्होंने अपने लंड को अपने हाथ से पकड़ा और उनकी जांघो के बीच में से घुसाने लगे. जल्दी से ठोको.. मेरे राजा.. मामी ना कहा. रज्जो, अपने चुतड उठा कर धक्का मारती जाओ. आज तुम्हे ही चोदुंगा. मैं सिर घुमने लगा था. जमीन पर मैं बैठ कर चुपचाप देखने लगी. मामी कह रही थी – जल्दी से घुसाओ..वो सोफे पर हाथ रख पलट गयी. उनके चुतादो के पीछे लंड था. हे भगवान्… मामी गांड से चुद रही थी.. वो मुह से बुदबुदा रही थी.. जो मुझे कुछ समझ नहीं आया. याये अहहाह अहहाह उम्म्म्म म्मम्मम उम्म्म्म ममामम्मा… मामू अपने दोनों हाथो से चुचिया पकड़ कर भांजने लगे थे.

मामी के कंधे पर सिर टिका कर वो गले को चूम रहे थे. मुझे लगा, कि मैं कोई विडियो देख रही हु… ऊओहोहोहो होहोहोहो ह्म्ह्हह्म्ह्मह.. की आवाज़ मामी के मुह से निकल रही थी. मैं उन्मुक्त होकर मजे ले रही थी. मेरी ऊँगली खुद – ब – खुद ही मेरी चूत की क्लिट को सहलाने लगी. मेरी पेंटी पूरी तरह से गीली हो चुकी थी. मामू का मोटा लंड चुतादो के नीचे से चूत के छेद पर धक्का दे रहा था. लंड के दोनों बॉल्स उछल – उछल कर चुतड पर गिरे जा रहे थे. मैं समझ गयी, कि मामी की पिलाई हो रही है. थोड़ी देर बाद, मामू ने मामी को पीठ के बल लिटाया, अब वो झड़ने वाले थे. मामी ने उनके लंड को चुसना शुरू कर दिया था. जल्दी ही लंड की मलाई बाहर निकलने लगी. मामी जीभ निकाल कर लंड का मुह चाट रही थी. दोनों एक दुसरे से चिपक कर सोफे पर लेट गये. रश्मि बोल रही थी – सो गये किया? अभी मुझे गुडिया के पास जाना है. तुम सुबह तक यहीं सो जाओ.

मैं तुरंत अपने बेड पर आकार लेट गयी. थोड़ी देर बाद, मामी मेरे बगल में आकर सोने लगी. वो मेरा सिर दबा रही थी. अपनी जांघे मेरी चुतड पर रख दी. वो मेरा सिर दबा रही थी. अपनी जाघे मेरी चुतड पर रख दी. मुझे लगा की, कि उनकी चूत से बूंद – बूंद पानी मेरे चुतड पर गिर रहा है. चुदाई का खेल अभी भी याद करके मैं सिहर जाती हु.. मेरी चुदाई चूत की सील कैसे फटी.. इसके आपको थोड़ा वेट करना पड़ेगा…

Aug 22, 2016Desi Story

Content retrieved from: .

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *