HomeSex Story

सेक्सी योगा टीचर की चुदाई योगा क्लास

सेक्सी योगा टीचर की चुदाई योगा क्लास
Like Tweet Pin it Share Share Email
सेक्सी योगा टीचर की चुदाई योगा क्लास

हेलो दोस्तो, मैं करण आज आपको एक न्यू स्टोरी सुनता हूँ , ये कहानी मेरी ज़िंदगी की बहुत ही ख़ास कहानी है, आपको जरूर मजा आएगा, मुझे थोड़ा हिंदी लिखने में कठिनाई होती है अगर गलती हो तो समझ लेना थोड़ा, शब्द में क्या रखा है, मेरी वासना की भाव को फील करना, मैं नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे नया नया हु, पर कुछ मेरे साथ योग बाली मैडम के साथ बिता की मुझे भी लगा की आपको मैं अपनी कहानी सुनउँ. अब मैं बिना देर किये सीधे कहानी पे आता हु, मुझे पता है नहीं तो आप गालियां दोगे.

अभी कुछ दीनो से हुमारे यहा योगा का बड़ा चर्चा चल रहा है तो मेरे घर के पास ही एक योगा सेंटर खुला बिल्कुल नया मैं एक दिन इन्क्वारी लेने गया तो देखा एक बहुत ही मस्त भाभी आगे करीब 24-25 की होगी सब कुछ उनका फिट आंड फाइन शारीर देख कर मुझे लगा की मैं भी ज्वाइन करुंग. देखने मैं बहुत सुंदर नही पर उनका साफ़ रंग था काली या सावली नही कहेंगे लेकिन बॉडी बिल्कुल शेप मैं योगा टीचर थी तो बॉडी शेप मैं होगा ही एक दम 36.24.36 रीबॉक का ट्रैक सूट पहने हुए थी तो मैने वह पर दाखिला करवा लिया ले लिया बोली की आप कल सुबह 5 बजे वाला बॅच ज्वाइन कर लो अभी 4लोग है उसमे. तो मैने सोचा कहा भीड़ मैं मज़ा नही आएगा तो मैने बोला नो मैडम मुझे ये टाइम सूट नही करेगा ७ बजे वाला अगर हो तो ….

मैडम ने कुछ सोचा फिर बोली ठीक है पर आपको अभी अकेले ही सीखना होगा क्यू की भी उस टाइम पे कोई और नही है तो मैने हां बोला मैं तो यही चाहता था मन की एक मुराद तो पूरी हो गयी मैं मान ही मान खुश था तब वो बोली अरी हाँ आपके पास टाइट ट्रॅक तो है ना वो ले आना जीन्स मैं योगा नही होगा तो मैने बोला कोई नई मैडम मैं आज ही ले लूँगा और अगले दिन टाइम से चला गया मैडम सामने ही थी मैने प्रणाम किया हाथ जोड़ कर उसने भी रिप्लाइ किया आज तो और भी हॉट लग रही थी डीप नेक वाली टी शर्ट ट्रॅक पैंट एक दम टाइट मैडम बोली के योगा रूम अंदर है मैं उनके पीछे पीछे चल दिया बोली की चेंज रूम साथ वेल कमरे मैं है चेंज कर लो मैं तुरंत गया और चेंगे करके आ गया योगा रूम मैं बड़ा ही अजीब लग रहा था टाइट पैंट मैं फिर मैडम मेरे सामने बैठ गया मैं भी बैठा था और पहले कुछ योग के बारे मैं बताने लगी

फिर ध्यान लगाने को बोला अब उसने एक छोटा सा योग आसान बताया और मैं जान बुझ कर नही करने का नाटक करने लगा अब वो मेरे पास आई बोली कभी किया नही तुमने इसलिए एसा हो रहा है और मुझे बताने लगी ट्रेन करने लगी जब वो नीचे झुकती उसकी चूचियाँ साफ़ दिखाई देते ब्रा के साथ मेरा खड़ा हो गया और टाइट पैंट होने के करण सफ़फ़ दिखने लगा मैडम ने भी नोटीस कर लिया लेकिन क्या कर सकते थे

फिर मैडम एक दो छोटे योगा करवा कर बोली आज ये घर मैं करना और तुम्हारा ध्यान भटकता है सो कृपया फोकस करो योग पर सिर्फ. मैने सॉरी बोला और कपड़े चेंज करके बाहर आ गया नेक्स्ट दिन सेम टाइम फिर गया मैडम आज सारी मैं थी हॉट बूम लग रही थी खुला पेट श कयामत लग रही थी मैं चेंगे करके ढयन लगा रहा था मैडम भी मेरे साथ ध्यान लगा रही थी फिर मैडम ने बोला की कल वाली करके बताऊँ.

तो मैने कर के बता दिया बोली गुड आज कुछ और करते है लेट जाओ रिलॅक्स हो कर मैं लेट गया हटो को दोनो तरफ करो इधर करो उधर करो बता रही थी फिर मैने कोई ग़लती कर दी और सयद मैडम चाह रही की मैं ग़लती करू वो मेरे पास आई और झुक बोली ध्यान से करो सर को सामने और कुछ कुछ बता रही थी तभी उनका सारी का पल्ला मेरे अप्पर गिर गया और बूब के दर्शन हो गये मैं तो बस चूचियाँ को ही देखे जा रहा था कुछ वो भी मुझे ही देखती रह गयी

READ  क्या हॉट थी मकानमालकिन - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya

फिर सॉरी बोल कर सारी ठीक कर ली मैं वैसे ही लेते मैडम को बोला एक बात बोलू बुरा तो नही मनोगी बोली क्या बोलो मैने बोला आप बहुत ही सुंदर हो और मैं आपसे योग नही शिखा पाओगे. बोली क्यू क्या हुवा मैने कहा आप जो भी बोलती बताती हो मुझे कुछ नही सुनाई देता मैं सिर्फ़ आपके बारे मैं ही सोचता रहता हो और कल भी आज आपने मेरी हालत तो देख ली है तो उसने कहा हाँ

वो तो है पता है मैं यहा अकेली रहती हूँ दो तीन महीने मैं मेरे पति आते है बाहर काम करते है कल तुम्हारा देख कर मुझे रात भर नींद नही आई क्या करू मैं अभी जवान हूँ मेरा भी मन करता है सेक्स का तुम एक काम करो मैं तुम्हारी फ़ीस माफ़ कर देती हूँ और तुम मुझे खुश रखो मैं उनका हाथ पकड़ कर खिच लिया आपने ऊपर वो मेरे ऊपर आ गयी मैं उन्हे चूमने लगा किस करने लगा वो भी साथ दे रही थी आभी स्लो स्लो चल रहा था फिर सूँछ होने लगा मूह घुमा घुमा कर हर तरफ से सूँछ कर रही थी पूरा खिलाड़ी थी भाई आब मैं उनके आइज़ पे बरी बरी चुंबन देने लगा सर पकड़ कर तब वो बोली की अंदर चलो बेडरूम मैं वो वही रहती भी थी आपना ऑफीस अंडर से लॉक करके आ गयी बैडरूम मैं आते ही हम

फिर से स्टार्ट हो गये एक दूसरे से लिपट कर चुंबन करने लगे जब जिसे मौका मिलता और जहा मिलता चूम लेते मेरा हाथ आब सारी ऊपर से ही उनकी नितंभो को सहला रही थी और कभी पीठ को भी वो पागलो की तरह से चूम रही थी और चुंबन ले दे रही थी गर्दन मैं उसके आस पास सभी जगह कानो को मैं चूम कर दाँतों से काट रहा था वो आहह ह आह करण बहुत बाड़िया करो मुझे पूरा जकड़ लो करण ज़रा भी कुछ ना रहे करण प्ल्ज़ और टाइट पाकड़ो एर भी पास ना हो आज आह ह ऑश ईीई बहुत बाड़िया कर रहे हो बहुत बाड़िया करण जल्दी करो और आपने एक लेग को उठा कर मेरे लेग्स मैं मसलने लगी

आब मैं उसे गोद मैं उठा कर किश कर रहा था और ब बेड मैं लिटा दिया और वो उल्टा होकर लेट गयी सर को नीचे कर ली छिपा लिया फेस आपना मैं आप पीठ जो मेरे सामने था पीठ को चूमने लगा और उसके दोनो हाथो को आपने हाथो के साथ उपर कर दिया और चूम रहा था आब मैं उसके हॅंड्ज़ चूमता क्या लगभग छत ता हुवा गले तक आ गया और पीछे से ब्लाउज की हुक खोल दिया पाँच हुक थी जैसे ही हुक खोला ब्रा की हुक सामने थी मैने ब्रा की हुक के आस पास किस करते हुए ब्रा भी खोल दिया पूरा सपाट सेक्सी पीठ मेरे सामने आब बताने ज़रूरत नही मैने क्या किया होगा

फिर मैं नीचे लेग को चूमते हुए सारी को उपर उठता गया चूमता गया आब मैडम को सीधा लिटा दिया और उपर के सारे कपड़े हटा दिया पूरी चूचियाँ की दरशन हो गयी दोनो चूचियाँ को प्यार करने लगा दबाने लेगा आब एक लेफ्ट वाली बूब को मूह मैं लेकर चूष्ने लगा और दूसरे को दबाने लगा जीभ से निपल को गोल गोल चाटने लगा और मैडम आह हह ह एस दो इट एस करण खा जाऊ कतो ना और ज़ोर से करो चूसो आहह आ अब करण दूसरे को करो प्ल्ज़ मैं आब दूसरे मैं आ गया एस करण कारूऊ अहह ह्म करो करण बहुत बाड़िया तुम सेक्स का डॉक्टर हो करो मैं भी तुम्हारा लंड कहा है दो न मुझे इधर आह प्लीज, मुझे खुश कर दो ना करण प्लीज,

READ  अपना वीर्य आंटी को चटाया हेलो दोस्तों.. मेरा नाम नितिन है और मेरी उम्र 26 साल है. मैंने अपने जीवन के बहुत से सेक्स अनुभव यहाँ आपके साथ बहुत से शेयर किये है और आप लोगो ने उनको काफी सराहा और पसंद किया. वो मेरे लिए बहुत अच्छी बात है. अब मैं आज आप सभी के सामने अपना एक नया सेक्स अनुभव लिख रहा हूँ और शायद मेरी पिछली कहानी भी आप सभी को याद होगी कि कैसे मैंने अपनी आंटी को बजाया और अब मैं उसके आगे की कहानी शुरु करता हूँ.. दोस्तों आंटी के साथ सेक्स करने के बाद आंटी मेरे लंड की दीवानी हो गयी और फिर जब भी अंकल बाहर जाते तो हम बहुत दिनों तक कई कई घंटो तक सेक्स करते फिर एक दिन अंकल को किसी काम से कुछ दिनों के लिए बाहर जाना था और मुझे तो मज़ा आ गया कि मैं अब मज़े से आंटी की चुदाई करूंगा.. तो अंकल के जाते ही मैं आंटी के घर पर पहुंच गया. आंटी किचन में अपना काम कर रही थी और मैं उनके पीछे खड़ा हो गया और मैंने अपने लंड को आंटी की गांड से छू दिया. तभी आंटी ने कहा कि इतनी जल्दी क्या हैं? अभी तो हमारे पास पूरा एक हफ्ता पड़ा हैं.. तुम जी जैसे चाहो वैसे जी भरकर चुदाई करना. तो मैंने कहा कि मुझे अभी इसी वक़्त चुदाई करनी हैं.. आंटी बोली कि ठीक हैं और मैंने आंटी की साड़ी को खोल दिया और उनके बूब्स चूसने लगा. तो आंटी कहने लगी कि मुझे कब से इस दिन का बड़ी बेसब्री से इंतजार था कि तुम जी भरकर मुझे चोदो और वैसे भी तुम्हारे अंकल के लंड में अब वो दम नहीं हैं.. जो तुम्हारे लंड में है. फिर मैंने आंटी की चूत चाटनी शुरू कर दी और आंटी सिसकियाँ लेने लगी हाए आह्ह्ह ऊँह्ह्ह और जोर से चूसो. फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला और आंटी की चूत पर रखकर जोर जोर से धक्के मारने लगा. आंटी वाह मेरे राजा मार आज फाड़ दे मेरी चूत को और जोर से मार कसकर धक्के मार बना दे मुझे अपनी रंडी.. मैं भी कहे जा रहा था कि ले रंडी ले मेरा लंड ले.. मैं आज तेरी चूत के दो टुकड़े कर दूंगा और मैं पूरे जोश मैं आकर बहुत जोर जोर से धक्के देकर उसकी चूत मार रहा था और इस चुदाई के चक्कर मैं हमने दरवाजा बंद नहीं किया था और हम पूरे जोश के साथ सेक्स मैं लगे हुए थे. तभी आंटी की बड़ी बहन जिसे मैं बड़ी माँ कहता था वो आ गयी.. लेकिन हम लोगों को पता नहीं था और हम तो सेक्स में व्यस्त होकर मज़े कर रहे थे और हमे उस समय इस बात का पता नहीं चला और सेक्स के बाद हमने कपड़े पहने और आंटी ने कहा कि बच्चे स्कूल से आते होगें.. जान तुम आज रात को आना हम फिर से मजा करेंगे. तो मैं उस समय अपने घर पर चला गया और जब रात को आंटी के घर गया तो देखा कि आंटी कुछ परेशान लग रही थी.. तो मैंने पूछा कि आंटी क्या बात है? और आप इतनी टेंशन में क्यों हो? तब उन्होंने मुझे बताया कि जब हम दिन में सेक्स कर रहे थे.. तब हमे मेरी दीदी ने देख लिया. फिर मेरे तो होश ही उड़ गये और मैं कुछ देर बाद बोला कि आप यह क्या बोल रही हो? लेकिन हमे बड़ी मम्मी ने कब देख लिया? तो उन्होंने कहा कि हाँ मैं एकदम सच बोल रही हूँ.. हमे उन्होंने सेक्स करते हुए देख लिया है. फिर मैंने बोला कि अब क्या होगा? तो वो बोली कि उन्होंने कहा हैं कि वो रात को यहाँ पर आएगी.. लेकिन हम बहुत डर गये थे कि अब सबको पता चल जाएगा. फिर आंटी ने अपने दोनों बच्चो को खाना खिलाकर जल्दी ही सुला दिया और हम बैठे बैठे उनका इंतजार करने लगे.. बड़ी माँ रात के 10 बजे आई और उन्होंने कहा कि मैं तुम दोनों के बारे मैं तुम्हारे अंकल को बताउंगी. तो मैंने कहा कि जाओ बताओ मैं भी बता दूँगा कि तुम्हारा पति कुछ नहीं कर पता.. क्योंकि उसका लंड खराब हो गया हैं और तुम अपनी चूत में मोमबत्ती घुसाती हो. तो उन्होंने कहा कि तुम्हे यह सब किसने बताया? फिर मैंने कहा कि वो तो छोड़ो.. तभी वो रोने लगी और कहा कि मुझे सिर्फ़ यह कहना था कि बेटा तुम मेरी भी प्यास बुझा दो. तो मैंने कहा कि आपको ऐसा पहले कहना था और हम तो बिना बात के डर ही गये थे. तो आंटी ने कहा कि आज तो बहुत मज़ा आएगा और मैंने बड़ी माँ को गले लगा लिया. मेरी बड़ी माँ के बूब्स 40 के होंगे और गांड 34 की.. मैंने उनकी साड़ी खोल दी और कहा कि चल अपने बूब्स दिखा रंडी. तो उसने ब्रा को खोल दिया और मैं तो दंग ही रह गया कि उसके बूब्स इतने बड़े थे और मैंने बूब्स चूसना शुरू कर दिया. एक बूब्स मैं चूस रहा था और एक आंटी.. फिर हमने थोड़ी देर बाद बड़ी माँ को लेटा दिया और मैं उनकी चूत पर चड़ गया और उनकी चूत को चाटने, चूसने लगा और आंटी उनके बूब्स चूस रही थी. तो बड़ी माँ सिसिकियाँ भर रही थी और कह रही थी कि वाह मज़ा आ गया यार प्लीज़ और चूसो.. मैं चूसता रहा और थोड़ी देर बाद उनकी चूत से पानी निकल गया और वो कांपने लगी और कहने लगी कि मेरी शादी के इतने साल बाद आज पहली बार मेरी चूत से पानी निकला हैं. तो मैंने कहा कि मैं अब आपकी चूत फाड़ दूंगा.. तभी वो बोली कि फाड़ दे बेटा मेरी चूत और दिखा अपने लंड का जोश. फिर मैंने अपना लंड पेंट से बाहर निकाला.. तभी वो मेरा बड़ा लंड देखकर डर गयी और बोली कि यह 7 इंच का लंड अब तक कहाँ पर छुपाकर रखा था? और मुझे पहले पता होता तो मैं हमेशा तुझसे ही चुदवाती. मैंने बिना देर किए अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया.. उनके मुहं से आह्ह्ह निकल गयी और वो जोर से चिल्लाने लगी.. ऊई हहाहह माँ मार दिया मुझे.. चोद मुझे और जोर से चोद दे फाड़ दे माँ उईईई मैं गई.. तो मैंने कहा कि अब मेरा वीर्य निकलने वाला है.. कहाँ पर डालूं? तो उन्होंने कहा कि डाल दे अंदर ही और मैंने उनकी चूत के अंदर ही अपना वीर्य डाल दिया.. आंटी देख रही थी और उसने अपनी बहन से कहा कि आपका काम तो हो गया दीदी बताओ अब मेरा क्या होगा? तब बड़ी माँ ने कहा कि आज मैं एक सेक्स पावर की गोली लाई हूँ हम इसको खिला देते हैं और यह हम दोनों को आज रात भर चोदेगा. तो मैंने कहा कि नहीं मैं गोली नहीं खाऊंगा.. आंटी ने कहा कि बेटा खाले नहीं तो तेरी बड़ी माँ कूद कूदकर शोर मचाएगी क्योंकि उसे बड़े दिनों के बाद लंड जो मिला हैं. फिर मैंने वो गोली खा ली और थोड़ी देर बाद जब उस गोली का असर हुआ तो मेरा लंड ऐसा हो गया था जैसे मानो की लोहे का सरिया हो.. मेरा लंड तनकर अकड़ रहा था और मुझे बहुत दर्द हो रहा था.. मेरी हालत एसी थी कि मुझे जो कोई भी मिल जाए मैं उसे ही चोद दूँ. मैंने आंटी को कहा कि जल्दी से कुतिया बन जाओ और मैं आंटी के बाल पकड़कर उनके ऊपर चड़ गया और चुदाई शुरू की.. गोली की वजह से मुझे वीर्य गिरने का भी डर नहीं था इसलिए मैं पागलों की तरह कसकर धक्के मार रहा था. तो आंटी बोली कि क्या आज मेरी चूत फाड़ ही दोगे? मैंने कहा कि साली कुतिया चुपकर अपने पति से सन्तुष्टि नहीं मिलती तो मुझसे चुदवाती हैं साली कुतिया ले मेरा लंड. तो आंटी सिसकियाँ लेने लगी.. उई माँ उऊफ़ मैं मर गयी उईउऊफ़ मज़ा आ रहा हैं यार.. मार कसकर मार ईईईऊफ़.. तभी बड़ी माँ बोली कि क्या उसे ही चोदेगा या मुझे भी चोदेगा कुत्ते? तो मैंने कहा कि आजा रंडी तू भी और मैंने कहा कि चल घोड़ी बन और उसकी गांड में लंड घुसा दिया.. वो रोने लगी हाए बाहर निकाल आज तू क्या मुझसे बदला लेगा? तो मैंने कहा कि चुप कुतिया ले मेरा लंड ले बहुत गोली खिलाने का शौक था ना तुझे.. ले अब और गांड मरवा. मैंने उसकी गांड मार मारकर उसकी गांड का छेद बड़ा कर दिया. वो उई उऊफ़ गया पूरा लंड मेरी गांड में गया.. मैं मर जाऊंगी.. मैं आज मर गई.. उउफ वो यही कह रही थी और फिर आंटी ने कहा कि मेरी भी गांड मार बेटा. तो मैंने अपना लंड आंटी की गांड मैं घुसा दिया.. वाह मुझे मज़ा आ गया यार मैं बहुत धक्के मारता गया और मैंने उस रात बहुत देर तक उन दोनों की चुदाई की और उन दोनों की हालत खराब हो गई.. लेकिन गोली की वजह से मेरा वीर्य निकल ही नहीं रहा था.. तभी मुझे एक आईडिया आया और मैंने कहा कि आज मैं तुम दोनों को मार ही डालूँगा.. मैंने आंटी से कहा कि अपना मुहं खोलो. तो उन्होंने मुहं खोल दिया और मैंने उनके मुहं में अपना लंड घुसा दिया और आंटी के मुहं को चोदने लगा. आंटी को बहुत मज़ा आ रहा था.. लेकिन मैं इतनी जोर से धक्के मार रहा था कि आंटी की सांसे तक रुक रही थी और उनकी आखों से आंसू आने लगे थे. तो आंटी बोली कि मुझे नये तरीके से चोद.. मैंने कहा कि ठीक हैं और मैंने उनको हवा में उठा दिया और चोदने लगा.. आंटी की हालत खराब हो रही थी. तो आंटी ने कहा कि तो अब मुझे छोड़ दे और दीदी को चोद.. मैंने बड़ी माँ को पकड़ा उसकी गांड को जोर से काट लिया और फिर उसकी गांड बहुत जोर से मारने लगा. मैंने उस रात उन दोनों को 4 बार चोदा दिया अब मुझे लगने लगा कि मेरा वीर्य निकलने वाला है तो मैंने कहा कि जो भी मेरा वीर्य गिराएगा मैं उसे कल फिर गोली ख़ाकर चोदूंगा. तो तुम दोनों सोच लो कि जो कोई भी जीतेगा वो कल कितने मजे करेगा. फिर मैंने पहले बड़ी माँ को बहुत चोदा.. लेकिन मेरा वीर्य नहीं गिरा और जब आंटी को चोदा तो भी वीर्य नहीं गिर रहा था. तो आंटी ने अपना दिमाग़ लगाया और कहा कि जान आज बहुत मज़ा आ रहा है और वो मेरे पास आती जा रही थी और बोलने लगी कि अपना लंड मेरे मुहं में डालो.. अपना वीर्य मेरे मुहं में डालो.. यह सुनकर मेरा वीर्य गिरने लगा था.. मैंने अपना लंड आंटी के मुहं में घुसा दिया और वो सारा वीर्य पी गयी और हम तीनो ऐसे ही नंगे सो गये .. Aug 22, 2016Desi Story

वो पागलो की तरह कर रही थी मैं भी भूखा शेर की तरह चूचियाँ से खेल रहा था आब मैने नीचे आते हुए चूमते किस करते पेट से गुज़रता हुवा नाभि पे आपनी जीव घुसेड दी मीन्स डाल दिया और नाभि को सक करते लगा जीव से गहरी नाभि को छोड़ रहा था वो मेरे बाल खिच रही थी और छटपटा रही थी मूह से बकबक किए जा रही थी आअहह ह उईईइ प्लज़्ज़्ज़ करण आआब डाअल दो आपना लंड प्ल्ज़ करणऔर मत तडपाऊ आअहह उम्म्म ह एट्सेटरा आब मैं उनकी पेंटी सारी सब उतार दी आब वो बिल्कुल न्यूड थी मैने भी आपना उतार दिया सब कुछ आब मेरा लंड उसके सामने था वो उठ कर बैठ गयी और मेरे लंड को बड़े प्यार से चूमा और बोली बनाने बाले ने क्या खूबसूरत चीज़ बनाया एसके बिना सब कुछ बेकार है राज और मूह मैं ले लिया और कई तरह से लंड चूसा मयझे बताना भी नही पड़ा और वो खुद ही चूस रही थी चाट रही थी, किस सब कुछ कर रही थी

फिर वो बोली जान आब तुम मेरे मुंह को चूत समझ के चोदो जितनी ज़ोर से कर सकते वो करो मैं तुम्हारे लंड को गले तक महसूस करना चाहती हूँ ये बोल कर लंड को मूह मैं ले लिया और आगे पीछे करने लगी मैं भी अब उनका सर पकड़ कर मूह को चोदने लगा और वो मूह के जीव से लंड को कभी प्रेस कर कभी उपर उठती और कई तरीके कर रही थी मैं भी वाइल्ड हो गया था डीप थोरट फक कर रहा था थोड़ी देर बाद

जब उसी तकलीफ़ होने लगी तो उसने लंड बाहर कर दिया बोली जान आब बस आब चूत की बरी है देखो क्या हालत हो गयी है चूत की कुछ करो चूत का तो मैं उसी लेता कर उसके दोनो लेग्स के बीच लेट गया और पैरो को फैला कर जीभ से चूत के चारो तरफ चाटने लगा आब चूत को फैला कर जीव डाल दिया एक दम आग के जैसा गर्म चूत मैं जब जीव जाता है तो बहुत ही मज़ा आता है मैं चूत के दाने को उपर नीचे गोल गोल जीव से ह्युमेन लगा वो अब चूत को उपर उठा दी जैसे कोई योगा का आसान हो चूत खुल कर कर बिल्कुल मेरे मूह के सामने आ गयी मुझे बस जीव लगा कर चाटना था थोड़ी देर बाद मैने एक एक करके दो उंगलियो को चूत मैं डाल कर अंदर बाहर करने लगा और दाने को चाटने लगा वो आअहह आह ऑश राज हो गया करण आब डाल दो करण मैं दो बार झड़ चुकी हूँ करण प्ल्ज़ आअहह आह श श फक मे करण फक मे

मैने भी देखा ये सही टाइम है चूत मैं प्रवेश करने का अब वो एक और आशण की पोज़ मैं गयी एक बड़ी ही सेक्सी आशण ये उस पोज़ का नाम है इस्मै डॉगी स्टाइल के जैसा ही होता है लेकिन लेग्स थोड़ा फैला होता है और सर बिल्कुल नीचे इस्मै चूत पूरा खुल जाता है और बाहर की तरफ आ जाता है जिससे लंड पूरी गहराई मैं आसानी से चला जाई आब मैने देर ना करते हुए ढेरे से लंड पेल दिया और कमर पकड़ कर आग्गे पीछे करने लगा मेरे लंड बहुत ही आसानी से चूत की गलियो गुज़रता जा रहा था चूत की कोमल हड्डिया लंड को और बेताब कर रही थी मैं कभी ज़ोर से पेलने लगता कभी आराम से अंदर बाहर करता कभी पूरा लंड बाहर खींच खींच कर पेलता तो कभी तोड़ा बाहर करके पेलता थोड़ी देर बाद उसने पोज़ चेंगे कर लिया इस बार धनूर आशण मैं गयी इस्मै साइड होकर खड़ी हो गयी और एक पैर उठा कर मेरे कंधे मैं रखा और एक हाथ को सामने दीवार मैं और मेरा लंड ठीक चूत के सामने था मैने लंड डाल दिया और पेलने लगा लेकिनवो तोड़ा अनबॅलेन्स लग रही थी छोड़ी मैं तो मैने उसके चूचियाँ को हाथ बड़ा कर पकड़ लिया और पेलने लगा वो च्चिलाने लगी आहह करण फक मे फुक्कककक करण फाड़ दो चूत को करण आज से मैं तुम्हारी हूँ करण तुम्हारा सारा खर्चा आज से मैं दूँगी करण फुक्क मि बहुत बाड़िया करण आहह ह फिर काफ़ी देर बाद मैने उसे गोद मैं उठा कर बेड मैं लेता दिया और बहुत ही सेक्सी स्टाइल मैं चोदने लगा चूचियाँ को दोनो हाथों से दबाने लगा चूष्ने लगा और वो बोले जा रही थी करो और ज़ोर और ज़ोर से झटके मारो करण करीब दस मिनट के बाद मैं झड़ने वाला था बोला जान कहा निकालु बोली रूको मुझे निकलना है माल और मैं लेट गया

READ  भाभी की वासना - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya

वो मेरे ऊपर आ गई और मूह मैं ले कर लंड को चूष्ने लगी उपर नीचे करने लगी काफ़ी सेक्सी लग रही थी और वो स्पीड से करने लगी मैं छूटने वाला था सरीर में अंगड़ाइयां आने लगे वो और फास्ट करने लगी और्र मेरा माल निकल गया उसने सारा माल पी लिया, दोस्तों यहाँ से शुरआत हुआ थे मेरे और योग बाली मैडम के साथ मेरा सेक्स सम्बन्ध अब तो मैं रोज रोज सेक्स करता हु, एक से एक पोज में.

Desi Story

Related posts:

मैं अकेली और चोदने बाले तीन जम कर चोदा तीनो लड़को ने
ममेरी बहन की सील तोड़ी
रंगीली पड़ोसन
नीना को ना नहीं कहा
दीदी की हॉर्नी फ्रेंड
भाभी को दो बच्चों की माँ बनाया Nude Bhabhi
फेसबुक फ्रेंड ने जाल में फंसाया
ट्रेनिंग सेण्टर की प्रेम-चुदाई
Massage client aunty ke sath sex
नये साल में सेक्स पार्टी एक रात
पापा ने नौकरानी को चोदा कहानी
कुंवारी टीचर की चूत चाट कर चुदाई की
भाबी की बुर का पानी पि कर प्यास मिटाई
भाबी की बुर का पानी पि कर प्यास मिटाई
खुनी चुदाई हुई मामी की चूत की
भाभी की अतृप्त प्यास - Desi Sex KhaniyaDesi Sex Khaniya
कजिन की चुदाई की उसके शादी से पहले
चाची की चूत में खुजली
वोह तो थी पूरी भूखी शेरनी
जब मैंने पहली बार डलवाया
Ek Khubsurat Rat Chacha Chachi Ke Sath
Collegue Dost Ki Maa Ko Chodai Ki Kahani
Majjak Majjak Mein Mama Ki Ladki Ko Chodai Kiya
दिव्या भाभी मेरे लंड से चुदी – मैंने एक तेज धक्का लगाकर उसकी फैली हुई चूत में अपने लंड को तीन इंच तक...
Diwali Ke Patakhe Meri Gand Mein-दीवाली के पटाखे मेरी गांड में
समर वेकेशन : छुट्टी या चुदाई sexy story
कुंवारी चूतों का मेला और मेरा लंड अकेला सब चाट चाट के खुद लंड से जमकर चुदवाती हे
बूढ़े ससुर जी ने जवान बहु का बुर पेला
बस अब हो गया जीजू
दोस्त की वाइफ पे किया एक एक्सपेरिमेंट

Comments (0)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *