Talak ke baad meri aur Simar ki pahli chudai ki kahani

हाँ ये सच है सेक्स करना गलती या गलत बात नहीं है” इतना बोल कर मैं चूतियों की तरह सिमर को देखता रहा और वो हंस कर चली गयी, बस  इतनी ही याद बाकी थी मुझे अपने स्कूल की और आज ये याद आई भी इसलिए क्यूंकि मैंने आज सिमर को देखा इतने बरसों बाद. स्कूल के बाद तो सब अलग हो ही गए थे और फिर पता चला की सिमरप्रीत की शादी कनाडा में हुई है और वो वहीँ चली गयी, सब दोस्तों ने उसी दिन मुझे पीना सिखाया और फिर मैं भी अपने रस्ते लग गया और आज लेडीज अंडर गारमेंट्स का शोरूम ले के बैठा हूँ कंपनी का. सिमर नए आज मुझे पहचाना होगा या नहीं, कहीं वो मुझे भूल तो नहीं गयी होगी, पर उसके गले में मंगलसूत्र और माथे पर सिन्दूर क्यूँ नहीं लगा था, शायद कनाडा जा कर मॉडर्न हो गयी होगी.

 

इन सब सवालों के साथ मैं अपनी दूकान मंगल कर के बस निकलने ही वाला था कि सिमर वहां आई और बोली “बिल्लू, पहचाना मुझे मैं सिमर, सिमरप्रीत” मैंने हंसकर कहा “हाँ हाँ क्यूँ नहीं तेरी वजह से ही तो इंग्लिश स्कूल से निकला गया था और फिर सरकारी स्कूल से पढाई करी थी मैंने”. सिमर बोली “मेरी वजह से या तेरी ऊटपटांग बातों की वजह से” मैंने कहा “अच्छा जी मेरी कौनसी ऊटपटांग बातें, मैंने तो सृष्टि के नियम को मानने की बात कही थी और तूने मास्टर से रो दी सारी”. सिमर कुछ बोलती उस से पहले मैं ही बोल पड़ा “और बता कनाडा में सब कैसा है और तू दूकान मंगल करने के वक़्त क्यूँ आई है, देख जो तुने ब्रा पैंटी लेनी है तो सुबह आईयो अभी तो टाइम हो गया लड्कोंन का भी और मेरा भी”, मैं ये सब कह कर चलता बना और सिमर भी वहां से चली गई.

अगले दिन सिमर वापस शॉप पर आई, मैं खाना खा रहा था तो लड़के ने कहा “भाई जी वो सिमर मैडम आई हैं” मैं रोटी छोड़ कर उछल पड़ा “ओये भेन्चोद मतलब की ये तो आज फिर आ गयी”, सिमर तब तक अन्दर आ चुकी थी और उसने मुझे ऊपर वाली फ्लोर पर जाने का इशारा किया मैं उसकी बात मान कर ऊपर चला गया. सिमर  ने  ऊपर जा कर मुझसे पूछा “तू अब भी उतना ही पगला है या बुद्धि आई थोड़ी” मैंने कहा “बुद्धि ना आई होती तो भेन्चो ये बिज़नस क्या हवा में खड़ा कर लिया” वो हंसी और बोली “तू नहीं सुधरेगा”. मैं उस से बहुत कुछ कहना चाहता था लेकिन मेरे मुंह से फूटा भी तो कुछ ना कुछ कड़वा ही बाद में मुझे अपनी बहन से पता चला की सिमर का अपने पति से तलाक हो गया है और वो वापस लौट आई है, मैंने सिमर से कांटेक्ट करने की कोशिश की लेकिन हो नहीं पाया और एक दिन सिमर को बस स्टैंड पर वेट करते देख मैंने गाड़ी रोकी उसे बिठाया और रस्ते भर उस से बातें की वो रो पड़ी और उसने सब बताया की किस तरह उसके ख्वाब टूटे और वो वापस आ गयी तलाक ले कर.

READ  भतीजी को नींद में चोदा

सिमर और मेरी नजदीकियां बढती जा रही थी और एक दिन सिमर का मेसेज आया मिलने के लिए मैं भी हाँ कर दी और जब वो मुझसे मिली तो मैं उसे देख कर दंग रह गया क्यूंकि वो कुछ अलग ही सुंदर लग रही थी और मैं अपना आप खो बैठा. मैंने सिमर को गाड़ी में बैठे बैठे ही किस कर लिया तो उसने कहा ‘तू इसी चीज़ के लिए वेट कर रहा था ना शुरू से ही” मैं मुस्कुराया तो उसने कहा “चल आज तुझे वो सब मिलेगा जिसके लिए तूने सजा पाई थी” उसने मुझे गाड़ी हाईवे पर लगाने के लिए कहा मैं खुश भी था और हैरान भी. हाईवे से पहले ही एक रिसोर्ट में हम रुके और कमरा ले कर सिमर और मैं जैसे ही अन्दर पहुंचे तो सिमर नए कहा “बोल तुझे क्या चाहिए” मैं शरमाया और बोला “चाहिए तो कुछ नहीं” तो उसने हंसकर कहा तो फिर वैसे ही तू मुझे घूरता रहता था”. मैं कुछ बोलता उस से पहले ही सिमर नए मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बेड पर बिठाया और एक भरपूर किस मेरे होठों पर कर दिया, मैं डरा हुआ था लेकिन मैंने भी उसके किस का जवाब अपने किस से दे दिया.

सिमर और मैं हौले हौले एक दुसरे के करीब आ रहे थे उसके जिस्म की खुशबु से मैं पागल सा हो गया था और सच कहूँ तो वो शादी एक बाद और भी निखर गयी थी सो मेरे तो जूनून का पारावार ही न रहा, मैंने जल्दी से अपने कपडे उतारे और सिमर के भी उतारने लगा तो मैंने देखा उसने मेरी ही शॉप से खरीदी हुए मैचिंग की ब्रा पैंटी पहन राखी थी और वो उसमें काफी सुन्दर दिख रही थी. उसका मक्खन सा बदन उसके खिले हुए चुचे और सबसे सुन्दर उसका चेहरा बड़ी बड़ी आँखें और वो मुस्कान जो मेरे करीब आते ही उसके चेहरे पर खिल उठी थी. सिमर के शरीर को मैंने बड़े ही प्यार से सहलाया और उसके अंग अंग को चूमा. सिमर के चुचे मैंने उसकी ब्रा से आज़ाद किए तो वो फडफडा कर बाहर आ गए जिन्हें मैंने अपनी मिलकियत समझ कर बड़े ही प्यारसे चाटना और चूसना शुरू किया तो सिमर रह रह कर चिहुंक रही थी.

READ  मेरे बेटे का दोस्त सनी

उसने मुझे कहा “ध्यान से करना मुझे बदमाशी पसंद है बदतमीजी नहीं” तो मैंने कहा “अभी तूने मेरी बदमाशी देखि कहा है और इतना कह कर मैंने हौले से उसकी पैंटी सरका कर जैसे ही उसकी मखमली चूत पर हाथ फिराया तो उसके मुंह से निकला “ऊऊउफ़्फ़्फ़ काश मैं तेरी बात पहले ही मान लेती”. मैंने उसके चूचों पर से जीभ फिराते हुए उसकी नेवल और फिर उसकी चूत तक ले जाते हुए उसकी चूत को किसी फल की तरह अपनी जीभ के टिप से चाटा तो उसकी सिस्कारियां तेज़ हो गयी और उसकी चूत में से भीनी भीनी गंध वाला रिसाव होने लगा. अब मुझे लग गया था की इसकी चूत को मेरे लंड से मिलवाने का वक़्त आ चूका है तो मैंने अपने लंड को निकाल कर उसके हाथ में दे दिया जिसे उसने बड़े ही प्यार से सहलाते हुए कहा “ये इतना काम का है ये मुझे आज पता चला” और ये कह कर उसने मेरे लंड को चूमा अपनी चूत पर सेट किया और खुद ही आगे खिसक गयी.

जैसे ही मेरा लंड सिमर की मखमली चूत में गया वो हल्के सी चीख के साथ सेटल हो गयी, पहले हम पास पास में लेटे थे लेकिन अब मैंने उसकी टाँगें चौड़ी कर के अपने लंड को उसकी चूत में फसाए फसाए ही उसे अपने नीचे ले लिया. मैं सिमर पर ज्यादा वजन नहीं डालना चाहता था इसलिए मैंने बेड पर अपने हाथ टिकाए रखे औत उसकी चूत में धीरे धीरे झटके मारने लगा, वो रह रह कर सिस्कारियां भर रही थी और मेरा नाम ले ले कर पुकार रही थी. सिमर नए मेरे हाथ अपने चूचों पर रख कर कहा “इन्हें मत छोड़ इस से ही तो मज़ा आ रहा था” सो मैंने उसकी चूत में लंड पेलने के साथ साथ ही उसके चुचे मसलना जारी रखा. सिमर को मैंने पूछा “मैं और भी तरीकोंन से कर सकता हूँ” तो उसने कहा “मेरे पीटीआई नए मुझे हर तरीके से चोदा है लेकिन प्यार से नहीं, सो तू मुझे बीएस ऐसे ही आराम से और प्यार से चोदना प्लीज़”.

READ  रात भर मुझसे चुदवाई और धमकी

मैंने उसकी बात रखी और उसे चूमते हुए प्यार से उसकी चूत में धीरे धीरे धक्के लगाने लगा, अब सिमर अपने चरम पर पहुँचने वाली थी सो उसने कहा “सुन थोडा सा तेज़ सेक्स कर दे ना” मैंने फिर उसकी बात मानी और धक्कों को तेज़ कर दिया. सिमर की चूत बुरी कदर से गरम हो चुकी थी और मेरे लंड का भी बुरा हाल था क्यूंकि इसी पोजीशन में चोदते चोदते मुझे आधा घंटा हो चला था और वो थी की थकने का नाम ही नहीं ले रही थी. सिमर नए और तेज़ करने को कहा तो मैंने स्पीड और बढ़ा दी और आखिरकार हम दोनों एक साथ झड़ गए, मैं थक कर सिमर के उपर ही लेट गया. हम दोनों पसीने में तर बतर थे और एक दुसरे के नम जिस्म को अब भी चूम रहे थे, सिमर ने कहा “देख मेरा अब शादी करने का मूड नहीं है लेकिन अगर तू करना चाहता हो तो कर लेना” मैंने कहा “पागल तू अगर मेरी है तो बिना शादी के मैं भी रह सकता हूँ” और उस दिन से ही मैं और सिम्मर इस अरेंजमेंट में खुश हैं और प्यार से एक दुसरे को सेक्स  से खुश रखते हैं.

Aug 10, 2016Desi Story

Content retrieved from: .

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *